Thursday, July 16, 2020

हमें मंजूर है ....सरिता शैल

हमें मंजूर है सीप बनकर रेत में दफन होना
शर्त फकत इतनी सी है तुम मोती बन चमको

हमें मंजूर है बीज बन मिट्टी में दफन होना
शर्त फकत इतनी सी है तुम फूल बन महकना

हमें मंजूर है मेघ  बन पानी में घुल जाना
शर्त फकत इतनी सी है तुम वृक्ष  बन लहलहाना

हमें मंजूर है सूखे  पत्ते बन धरा पर बिछ जाना
शर्त फकत इतनी सी है उस राह से तुम गुजरना

हमें मंजूर है तेरे लिये स्वर्ग  कि तलाश मे मर जाना
शर्त फकत इतनी सी है उसे मुक्कमल न तू करना
-सरिता शैल
मूल रचना

8 comments: