Tuesday, July 17, 2018

चोर कोतवाल..कुसुम कोठारी

image not displayed
मईया बोली सुन मोरे लला
काम पड़्यो अति भारी
मै आऊँ तब तक तू ही
कर माखन रखवारी 
तू कहत सदा ,
ग्वाल बाल ही है माखन के चोर
चोरी करत सब ,
और मेरे लल्लन पर
डालत दोष
आज तू ही संभाल माखन मोरो,
दूंगी तूझे घनेरो
सुन मईया की बात
मनमोहन पड़्यो घणे संकट मे
माखन भरो पड़्यो कटोरो
नही चख पाऊँ मै
निगरानी मे डारयो मईया
कैसी अनीति मचाई
सच माँ तू मोसे सयानी
चोर कू ही कोतवाल बनाई 
मै तो जग को ठाकुर हूं,
पर तू मोरी भी माई।
-कुसुम कोठारी 

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना 👌👌👌

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (18-07-2018) को "समय के आगोश में" (चर्चा अंक-3036) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया राधा जी।
      ब्लॉग पर आके मूझे खुशी होगी मै अवश्य आऊंगी।

      Delete
  3. 👏👏👏👏नटखट कन्हैया
    यशोदा वा की मय्या

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेह आभार मीता ।

      Delete