Monday, October 22, 2018

नया घर...पूजा प्रियंवदा

shimla life
Picture courtesy : @Shimlalife Twitter with permission
वहाँ कहीं एक सेब के 
बगीचे से घिरा 
एक पुराना घर है 
वहां एक बचपन दफ़्न है

मेरी नानी का 
पहाड़ी गुनगुनाना गुम है 
मेरे नाना की कहानियाँ 
खो गयी हैं

वो पगडंडियां 
अब मुझे भूल गयीं हैं 
वो पक्की रस्सी के झूले 
वीरान हैं

एक भाषा, एक उम्र 
एक जीने का सलीका 
पुराने घरों का साथ 
मर चुका है

वो पुराना घर 
अब नया बन चुका है !
- पूजा प्रियंवदा
पार्श्व स्वर

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (23-10-2018) को "दुर्गा की पूजा करो" (चर्चा अंक-3133) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बदलते समय के साथ बहुत कुछ खो जाता है ... यही नियति है ...

    ReplyDelete
  3. वाह!!बहुत खूब!

    ReplyDelete
  4. समय बीत जाता है यादों के गुबार रह जाते है।

    भावुक रचना।

    ReplyDelete