Tuesday, May 21, 2019

हाइकु..... डॉ.यासमीन ख़ान

मौन वेदना
हँसते हुए मुख
 नम हैं नैना
---------

कर्म है सिंधु
दूर अभी साहिल
नियति बिंदु।
---------

मन हिलोर
सजे याद की बज़्म
प्रेम ही ठौर।
-------

दिल को भाये
सदा से ही सागर
नैना रिझाये।
------------

महके यास्मीं 
जूही,चंपा,कली सी
सजी सी ज़मीं।
डॉ.यासमीन ख़ान 
02-05-2019

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (22-05-2019) को "आपस में सुर मिलाना" (चर्चा अंक- 3343) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete