Saturday, October 10, 2020

तुम सीमा के पार न जाना .....कौशल शुक्ला


जहाँ नहीं अधिकार न जाना।
तुम सीमा के पार न जाना।।

दीपक एक पतंगे लाखों
स्वप्न लिए परिणय की आँखों
कुछ भी हाथ नहीं आता है
मृग-तृष्णा संसार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

सबके मन मे चंचलता है
जिसको जितना भी मिलता है
इच्छाएँ बढ़ती जाती हैं
जीवन का व्यवहार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

सुख में साथ निभाती है यह
दुःख में ऑंख दिखाती है यह
संकट के घिरते ही दुनियाँ
करती तीखे वार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

-कौशल शुक्ला 

6 comments:

  1. जिसको जितना भी मिलता है
    इच्छाएँ बढ़ती जाती हैं
    जीवन का व्यवहार न जाना?
    तुम सीमा के पार न जाना।।

    वाह !!!बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. वाह!! रचना सटीक भी है, और उस में रस भी है। पढ़ना बहुत अच्छा लगा!

    ReplyDelete
  3. क‍ितनी खूबसूरती से आपने सारी बात कह डाली कौशल जी ...वाह ...क‍ि
    सबके मन मे चंचलता है
    जिसको जितना भी मिलता है
    इच्छाएँ बढ़ती जाती हैं
    जीवन का व्यवहार न जाना?
    तुम सीमा के पार न जाना।।...वाह

    ReplyDelete