Tuesday, October 20, 2020

अजन्मी ..विनय के. जोशी

 

जर्जर काया
पराश्रित जीवन
बुढ़ापा भरी
उस पर नारी .....

मैं कौन ?
मेरी ख्वाहिशें क्या ?
अधेड़ प्रौढ़ा
कुल की माया
नाती-पोतों की आया
उपेक्षा के बदले
वारी वारी ........

लहलहाती फसल
खनकता कुन्दन
श्रृंगारित दासी
जर जमीन जोरू
जागीरदारी ........

आदमखोर स्वछंद
मासूम कैद
संभल कर चलो
ओ नारी !
अभी हो कुंवारी ....
दूध भैया का .....
खिलौने भैया के ......
स्कूल भैया जाएगा ..........

उफ !
बहुत बुरा है,
दो पैरों का जानवर
अपनी मादा के साथ |
शुक्र है मैं मुक्त हूँ
उन्मुक्त हूँ
जीवन रहा नही
मरण वार दिया
तन तारिणी
वन्ही (अग्नि) सागर
पल में पार किया ...

सांसें लेती
लाशों ने मुझे
कोख ही मे मार दिया
-विनय के जोशी


7 comments:

  1. बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 20 अक्टूबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. मार्मिक चिंतन से भरी रचना |

    ReplyDelete
  4. उफ !
    बहुत बुरा है,
    दो पैरों का जानवर
    अपनी मादा के साथ |
    शुक्र है मैं मुक्त हूँ
    उन्मुक्त हूँ

    ReplyDelete