Monday, October 4, 2021

ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ ...बशीर बद्र


कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बँधा हुआ
वो ग़ज़ल का लहजा नया नया न कहा हुआ न सुना हुआ

जिसे ले गई है अभी हवा वो वरक़ था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ कहीं आँसुओं से लिखा हुआ

कई मील रेत को काट कर कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है नदी के पास खड़ा हुआ

वही ख़त कि जिस पे जगह जगह दो महकते होंटों के चाँद थे
किसी भूले-बिसरे से ताक़ पर तह-ए-गर्द होगा दबा हुआ

मुझे हादसों ने सजा सजा के बहुत हसीन बना दिया
मिरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेहँदियों से रचा हुआ

वही शहर है वही रास्ते वही घर है और वही लॉन भी
मगर इस दरीचे से पूछना वो दरख़्त अनार का क्या हुआ

मिरे साथ जुगनू है हम-सफ़र मगर इस शरर की बिसात क्या
ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ  


- बशीर बद्र

8 comments:

  1. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. What an Article Sir! I am impressed with your content. I wish to be like you. After your article, I have installed Grammarly in my Chrome Browser and it is very nice.
    unique manufacturing business ideas in india
    New business ideas in rajasthan in hindi
    blog seo
    business ideas
    hindi tech

    ReplyDelete
  3. बहुत ही उम्दा बस शानदार

    ReplyDelete
  4. उम्दा प्रस्तुति... बशीर बद्र साहब की क्या कहें. कमाल के शायर हैं|

    ReplyDelete
  5. आपने सच में बहुत ही अच्छी जानकारी शेयर की है. जो कि पढने में बहुत अच्छी लगी. प्रताप नारायण मिश्र का जीवन-परिचय कक्षा 9 | Pratap Narayan Mishra Biography एवं उनका कार्यकाल के उपर भी जानकारी ला सकते है. यह बहुत अच्छा रहेगा. वैसे यह पोस्ट शेयर करने के लिए धन्यवाद
    Arman15

    ITI का Full Form क्या है, 2022 आईटीआई कैसे करें

    ए०पी०जे० अब्दुल कलाम का इतिहास जीवन परिचय | APJ Abdul Kalam biography in hindi
    Top 10 Low Investment business idea 2022 | कम लागत में ज्यादा मुनाफा

    ATM Se Paise Kaise Nikale | एटीएम से पैसे कैसे निकाले 2022

    ReplyDelete