Wednesday, July 31, 2013

सावन मेरे................'वीर'


लौटे नहीं हैं परदेस से साजन मेरे,
तुम थोड़ी जल्दी ही आ गए सावन मेरे|

अब आये हो तो दर पर ही रुकना,
पांव ना  रखना तुम आँगन मेरे|
तुम थोड़ी जल्दी ही आ गए सावन मेरे…

तेरी ये गड़गड़ाहट, तेरी ये अंगडडाईयां,
इनसे मुख्तलिफ नहीं हैं मेरी तन्हाईयां,
चाहे तो बहा ले कुछ आंसूं दामन मेरे|
तुम थोड़ी जल्दी ही आ गए सावन मेरे…

तेरी बूंदों से मेरी तिश्नगी ना मिटेगी,
तेरी कोशिशों से ये आग और बढ़ेगी|
तुझसे ना संभलेंगे तन मन मेरे|
तुम थोड़ी जल्दी ही आ गए सावन मेरे…

--'वीर' 
श्री वीरेंद्र शिवहरे 'वीर' की एक काफी पुरानी रचना

9 comments:

  1. सावन आया पिया नही आये ......।

    ReplyDelete
  2. तुम थोडे जल्दी ही आ गये सावन मेरे.... बहुत सुंदर रचना ..

    ReplyDelete
  3. बड़ी अफ़त है गर सावन आता तो वो नहीं आता है
    गर वो आ गया पहले तो सावन दगा दे जाता है

    बहुत खूब कहिन

    ReplyDelete
  4. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (01-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण- 72" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर मार्मिक प्रस्तुति...!

    ReplyDelete
  6. पिया नही आये, सावन भी नहिं भाए सखी री..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना ..

    ReplyDelete
  8. वाह अति सुंदर

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete