Saturday, July 20, 2013

बहुत-सी यादें हैं..............सुदर्शन प्रियदर्शिनी


बहुत-सी यादें हैं
तुम्हारे आंगन की
मेरी छनकती
पायल की
रुनझुन-तुम्हें
सुहाती थी
जैसे बेटी थी
मैं तेरे घर की।

लुटाते थे
आंखों से
सारे बाग-बगीचे
की संपदा
तुम मुझ पर
मैं कौतुक और भौंचक
देखी करती।

कैसे होते हैं
रिश्ते-नाते
या संबंध
जो अपनों की
बिलकुल
अपनों की
देहरियां
लांघकर भी
बना लेते
हैं घर और
ठिकाना।

दूसरों के घर
और पता
नहीं चलता
कौन-सा घर-
कौन-सा आंगन-
और उस एक
शब्द में
घुल-मिल
जाती है
सारी वसुधा
जिसे कहते
हैं- अपनापन।
- सुदर्शन प्रियदर्शिनी
(अप्रवासी भारतीय)

9 comments:

  1. शुभप्रभात छोटी बहना
    बहुत ही सुंदर
    लाजवाब पोस्ट
    हार्दिक शुभकामनायें ...।

    ReplyDelete
  2. bhaut khubsurat se bhaavo ko sanjoya hai apne...

    ReplyDelete
  3. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (21 -07-2013) के चर्चा मंच -1313 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. उस एक
    शब्द में
    घुल-मिल
    जाती है
    सारी वसुधा
    जिसे कहते
    हैं- अपनापन।-------

    सुंदर अनुभूति, सुखद अहसास
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    आग्रह है---
    केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे--------

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए शुक्रिया!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर
    लाजवाब पोस्ट

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete