Wednesday, January 23, 2019

यूँही नीम-जान छोड़ गया......परवीन शाकिर

तराश कर मेरे बाजू उड़ान छोड़ गया,
हवा के पास बरहना कमान छोड़ गया।

रफ़ाक़तों का मेरी ओर उसको ध्यान कितना था,
ज़मीन ले ली मगर आसमान छोड़ गया।

अज़ीब शख़्स था बारिश का रंग देख के भी,
खुले दरीचे पे इक फूलदान छोड़ गया।

जो बादलों से भी मुझको छुपाए रखता था,
बढ़ी है धूप तो बे-साएबान छोड़ गया।

निकल गया कहीं अनदेखे पानियों की तरफ,
ज़मी के नाम खुला बादबान छोड़ गया।

उक़ाब को थी ग़रज़ फ़ाख़्ता पकड़ने से,
जो गिर गई तो यूँही नीम-जान छोड़ गया।

न जाने कौन सा आसेब दिल में बस्ता है,
कि जो भी ठहरा वो आख़िर मकान छोड़ गया।

अक़ब में गहरा समुंदर है सामने जंगल,
किस इंतिहा पे मेरा मेहरबान छोड़ गया।
-परवीन  शाकिर

Tuesday, January 22, 2019

तन्हा गुलाबी किनारे पर.....श्वेता सिन्हा

किसी साँझ के किनारे
पलकें मूँदती हौले से,
आसमां से उतरकर
पेडों से शाखों से होकर
पत्तों का नोकों से फिसलकर,
ख़ामोश झील के
दूर तक पसरे सतह पर
कतरा-कतरा पिघलकर
सूरज की डूबती किरणें
गुलाबी रंग घोल देती है,
रंगहीन मन के दरवाजे पर
दस्तक देती साँझ, 
स्याह आँगन में
जलते बुझते टिमटिमाते
सपनीली ख़्वाहिशों के सितारे
मौन वेदना लिए निःशब्द
प्रतीक्षारत से वृक्ष,
जो अक्सर बेचैन करते है
गुलाबी झील में गुम हुई
परछाईयों में यादों को,
ढूँढता है मन संवेदनाओं में
लिपटे गुजरे कुछ पल,
उस उदास झील के 
तन्हा गुलाबी किनारे पर।
- श्वेता सिन्हा

Monday, January 21, 2019

सूरज तुम जग जाओ न...श्वेता सिन्हा

धुँधला धुँधला लगे है सूरज
आज बड़ा अलसाये है
दिन चढ़ा देखो न  कितना
क्यूँ न ठीक से जागे है
छुपा रहा मुखड़े को कैसे
ज्यों रजाई से झाँके है

कुछ तो करे जतन हम सोचे
कोई करे उपाय है
सूरज को दरिया के पानी मेंं
धोकर आज सुखाते हैंं
चमचम फिर से चमके वो
वही नूर ले आते हैंं

सब जन ठिठुरे उदास हैंं बैठे
गुनगुनी धूप भर जाओ न
देकर अपनी मुस्कान सुनहरी
कलियों के संग गाओ न
नील गगन पर दमको फिर से
संजीवन तुम भर जाओ न
मिलकर धरती करे ठिठोली
सूरज तुम जग जाओ न
     - श्वेता सिन्हा

Sunday, January 20, 2019

शायद वो आ गए हैं ...दानिश भारती


परखेगा ये ज़माना 
धोखे में आ न जाना 
------------

दिलचस्प तज्रबा है 
दुनिया से दिल लगाना 
------------

'हाँ ' भी छिपी थी उसमें 
जब उसने कह दिया 'ना'
------------

साक़ी का हुक्म है ये 
पीना , न डगमगाना 
------------
सब लोग याद रक्खें 
ऐसा कहो फ़साना 
------------

मेरी - - वही गुज़ारिश 
उसका - - वही बहाना 
------------

समझो तो क़ीमत इसकी 
है ज़िन्दगी खज़ाना 
------------

शायद वो आ गए हैं 
मौसम हुआ सुहाना 
------------

रास आ रहा है "दानिश" 
लफ़्ज़ों को गुनगुनाना 
--------------------------------
-दानिश 

Saturday, January 19, 2019

टूटेगा तो बिखर जाएगा...सीमा 'सदा' सिंघल

डर था मुझे वो टूटेगा तो बिखर जाएगा, 
तुमसे जो मुंह फेरेगा तो किधर जाएगा । 

संभालता रहा खुद को भागती दुनिया में, 
गिर गया तो फिर किसको नज़र आएगा । 

बेबसी जब भी पूछती मेरा हाल धीमे से, 
सोचता कुछ कहा तो बन ज़हर जाएगा । 

बुत बना रहा वो हादसों को देखकर जब,
कहा लोगो ने इसतरह तो ये मर जाएगा । 

गुनाहों  की जो लोग माफ़ी भी नहीं मांगते, 
पूछो तो बचाया इनको किस कदर जाएगा ।
-सीमा 'सदा' सिंघल

Friday, January 18, 2019

इक बार कहो तुम मेरी हो ..............इब्ने इंशा


हम घूम चुके बस्ती-बन में

इक आस का फाँस लिए मन में
कोई साजन हो, कोई प्यारा हो
कोई दीपक हो, कोई तारा हो
जब जीवन-रात अंधेरी हो
इक बार कहो तुम मेरी हो।

जब सावन-बादल छाए हों
जब फागुन फूल खिलाए हों
जब चंदा रूप लुटाता हो
जब सूरज धूप नहाता हो
या शाम ने बस्ती घेरी हो
इक बार कहो तुम मेरी हो।

हाँ दिल का दामन फैला है
क्यों गोरी का दिल मैला है
हम कब तक पीत के धोखे में
तुम कब तक दूर झरोखे में
कब दीद से दिल की सेरी हो
इक बार कहो तुम मेरी हो।

क्या झगड़ा सूद-ख़सारे का
ये काज नहीं बंजारे का
सब सोना रूपा ले जाए
सब दुनिया, दुनिया ले जाए
तुम एक मुझे बहुतेरी हो
इक बार कहो तुम मेरी हो।
~इब्ने इंशा

काव्य धरा





Thursday, January 17, 2019

मानवता खतरे में पाकर, चिंतित रहते मानव गीत..........सतीश सक्सेना

हम तो केवल हँसना चाहें 
सबको ही, अपनाना चाहें
मुट्ठी भर जीवन पाए हैं
हँसकर इसे बिताना चाहें
खंड खंड संसार बंटा है, सबके अपने अपने गीत।
देश नियम,निषेध बंधन में, क्यों बाँधा जाए संगीत।

नदियाँ, झीलें, जंगल,पर्वत
हमने लड़कर बाँट लिए।
पैर जहाँ पड़ गए हमारे ,
टुकड़े, टुकड़े बाँट लिए।
मिलके साथ न रहना जाने,गा न सकें,सामूहिक गीत।
अगर बस चले तो हम बाँटे, चाँदनी रातें, मंजुल गीत।

कितना सुंदर सपना होता
पूरा विश्व हमारा होता।
मंदिर मस्जिद प्यारे होते
सारे धर्म, हमारे होते।
कैसे बँटे, मनोहर झरने, नदियाँ,पर्वत, अम्बर गीत।
हम तो सारी धरती चाहें, स्तुति करते मेरे गीत।

काश हमारे ही जीवन में
पूरा विश्व, एक हो जाए।
इक दूजे के साथ बैठकर,
बिना लड़े,भोजन कर पायें।
विश्वबन्धु, भावना जगाने, घर से निकले मेरे गीत।
एक दिवस जग अपना होगा, सपना देखें मेरे गीत।

जहाँ दिल करे, वहाँ रहेंगे
जहाँ स्वाद हो, वो खायेंगे।
काले, पीले, गोरे मिलकर
साथ जियेंगे, साथ मरेंगे।
तोड़ के दीवारें देशों की, सब मिल गायें मानव गीत।
मन से हम आवाहन करते, विश्व बंधु बन, गायें गीत।

श्रेष्ठ योनि में, मानव जन्में
भाषा कैसे समझ न पाए।
मूक जानवर प्रेम समझते
हम कैसे पहचान न पाए।
अंतःकरण समझ औरों का,सबसे करनी होगी प्रीत।
माँ से जन्में, धरा ने पाला, विश्वनिवासी बनते गीत?

सारी शक्ति लगा देते हैं
अपनी सीमा की रक्षा में,
सारे साधन, झोंक रहे हैं
इक दूजे को, धमकाने में,
अविश्वास को दूर भगाने, सब मिल गायें मानव गीत।
मानव कितने गिरे विश्व में, आपस में रहते भयभीत।

जानवरों के सारे अवगुण
हम सबके अन्दर बसते हैं।
सभ्य और विकसित लोगों
में,शोषण के कीड़े बसते हैं।
मानस जब तक बदल न पाए , कैसे कहते, उन्नत गीत।
ताकतवर मानव के भय की, खुल कर हँसी उड़ायें गीत।

मानव में भारी असुरक्षा
संवेदन मन, क्षीण करे।
भौतिक सुख,चिंता,कुंठाएं
मानवता का पतन करें।
रक्षित कर,भंगुर जीवन को, ठंडी साँसें लेते गीत।
खाई शोषित और शोषक में, बढ़ती देखें मेरे गीत।

अगर प्रेम, ज़ज्बात हटा दें
कुछ न बचेगा मानव में।
बिना सहानुभूति जीवन में
क्या रह जाए, मानव में।
जानवरों सी मनोवृत्ति पा, क्या उन्नति कर पायें गीत।
मानवता खतरे में पाकर, चिंतित रहते मानव गीत।

भेदभाव की, बलि चढ़ जाए
सारे राष्ट्र साथ मिल जाएँ,
तन मन धन सब बाँटे अपना
बच्चों से निश्छल बन जाएँ,
बेहिसाब रक्षा धन, बाँटें, दुखियारों में, बन के मीत।
लड़ते विश्व में, रंग खिलेंगे,पाकर सुंदर, राहत गीत।
सतीश सक्सेना

Wednesday, January 16, 2019

मैं तृष्णा से अकुलाई रे........श्वेता सिन्हा

मदिर प्रीत की चाह लिये
हिय तृष्णा में भरमाई रे
जानूँ न जोगी काहे 
सुध-बुध खोई पगलाई रे

सपनों के चंदन वन महके
चंचल पाखी मधुवन चहके
चख पराग बतरस जोगी
मैं मन ही मन बौराई रे

"पी"आकर्षण माया,भ्रम में
तर्क-वितर्क के उलझे क्रम में
सुन मधुर गीत रूनझुन जोगी
राह ठिठकी मैं चकराई रे

उड़-उड़कर पंख हुये शिथिल 
नभ अंतहीन इच्छाएँ जटिल 
हर्ष-विषाद गिन-गिन जोगी
क्षणभर भी जी न पाई रे

जीवन वैतरणी के तट पर
तृप्ति का रीता घट लेकर
मोह की बूँदें भर-भर जोगी
मैं तृष्णा से अकुलाई रे
-श्वेता सिन्हा


Tuesday, January 15, 2019

उगती हुई कविता...... स्मृति आदित्य

रख दो 
इन कांपती हथेलियों पर 
कुछ गुलाबी अक्षर 
कुछ भीगी हुई नीली मात्राएं 
बादामी होता जीवन का व्याकरण, 
चाहती हूं कि उग ही आए कोई कविता
अंकुरित हो जाए कोई भाव, 
प्रस्फुटित हो जाए कोई विचार 
फूटने लगे ललछौंही कोंपलें ...
मेरी हथेली की ऊर्वरा शक्ति
सिर्फ जानते हो तुम 
और तुम ही दे सकते हो 
कोई रंगीन सी उगती हुई कविता 
इस 'रंगहीन' वक्त में.... 
-स्मृति आदित्य

Monday, January 14, 2019

वो आकर्षण.......संजय भास्कर

कॉलेज को छोड़े करीब 
नौ साल बीत गये !
मगर आज उसे जब नौ साल बाद 
देखा तो 
देखता ही रह गया !
वो आकर्षण जिसे देख मैं 
हमेशा उसकी और
खिचा चला जाता था !
आज वो पहले से भी ज्यादा 
खूबसूरत लग रही थी 
पर मुझे विश्वास नहीं 
हो रहा था !
की वो मुझे देखते ही 
पहचान लेगी !
पर आज कई सालो बाद 
उसे देखना 
बेहद आत्मीय और आकर्षण लगा 
मेरी आत्मा के सबसे करीब ........!!
- संजय भास्कर  

Sunday, January 13, 2019

उफ़!,ये क्या हुआ पता नहीं....श्वेता सिन्हा

क्यों ख़्यालों से कभी
ख़्याल तुम्हारा जुदा नहीं,
बिन छुये एहसास जगाते हो
मौजूदगी तेरी लम्हों में,
पाक बंदगी में दिल की
तुम ही हो ख़ुदा नहीं।

ज़िस्म के दायरे में सिमटी
ख़्वाहिश तड़पकर रूलाती है,
तेरी ख़ुशियों के सज़दे में
काँटों को चूमकर भी लब
सदा ही मुसकुराते हैं
तन्हाई में फैले हो तुम ही तुम
क्यों तुम्हारी आती सदा नहीं।

बचपना दिल का छूटता नहीं
तेरी बे-रुख़ी की बातों पर भी
दिल तुझसे रूठता नहीं
क़तरा-क़तरा घुलकर इश्क़
सुरुर बना छा गया
हरेक शय में तस्वीर तेरी
उफ़!,ये क्या हुआ पता नहीं....!

-श्वेता सिन्हा

Saturday, January 12, 2019

तुम मुझे मिलीं ....पंकज चतुर्वेदी

तमाम निराशा के बीच
तुम मुझे मिलीं 
सुखद अचरज की तरह 
मुस्कान में ठिठक गए 
आंसू की तरह 

शहर में जब प्रेम का अकाल पड़ा था 
और भाषा में रह नहीं गया था 
उत्साह का जल 

तुम मुझे मिलीं 
ओस में भीगी हुई 
दूब की तरह 
दूब में मंगल की 
सूचना की तरह 

इतनी धूप थी कि पेड़ों की छांह 
अप्रासंगिक बनाती हुई 
इतनी चौंध 
कि स्वप्न के वितान को 
छितराती हुई 

तुम मुझे मिलीं 
थकान में उतरती हुई 
नींद की तरह 

नींद में अपने प्राणों के 
स्पर्श की तरह 
जब समय को था संशय 
इतिहास में उसे कहां होना है 
तुमको यह अनिश्चय 
तुम्हें क्या खोना है 
तब मैं तुम्हें खोजता था 
असमंजस की संध्या में नहीं 
निर्विकल्प उषा की लालिमा में 

तुम मुझे मिलीं 
निस्संग रास्ते में 
मित्र की तरह 
मित्रता की सरहद पर 
प्रेम की तरह

-पंकज चतुर्वेदी
काव्य-धरा




Friday, January 11, 2019

बेहिसी के ज़ख्म......डॉ. अंजुम बाराबंकवी

प्यार के हर रंग को दस्तूर होना चाहिए,
ये गुज़ारिश है इसे मंजूर होना चाहिए।

फूल से चेहरे पर इतनी बरहमी अच्छी नहीं,
जानेमन गुस्से को अब काफूर होना चाहिए।

आजकल संजीदगी से अहले-दिल कहने लगे,
बेहिसी के ज़ख्म को नासूर होना चाहिए।

काटते रहते हैं जो बेरूह लफ्ज़ों का पहाड़,
उनको श़ायर तो नहीं मज़दूर होना चाहिए।

शोहरतों के फूल क़दमों में पड़े हैं देखिए,
आप को थोड़-बहुत मग़रूर होना चाहिए।

दिल के क़िस्से में चटकना-टूटना है सब फूजूल,
अब तो इस शीशे को चकनाचूर होना चाहिए।

कैसे-कैसे लोग ना क़दरी से पीले पड़ गए,
जिनको दुनिया में बहुत मशहूर होना चाहिए।
-डॉ. अंजुम बाराबंकवी

Thursday, January 10, 2019

रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये...निदा फ़ाज़ली

अपना ग़म लेके कहीं और न जाया जाये
घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाये 

जिन चिराग़ों को हवाओं का कोई ख़ौफ़ नहीं
उन चिराग़ों को हवाओं से बचाया जाये 

बाग में जाने के आदाब हुआ करते हैं 
किसी तितली को न फूलों से उड़ाया जाये 

ख़ुदकुशी करने की हिम्मत नहीं होती सब में 
और कुछ दिन यूँ ही औरों को सताया जाये 

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें 
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये
-निदा फ़ाज़ली


Wednesday, January 9, 2019

उसी लम्हे को तड़पना भी था ...जॉन एलिया

दिल जो दीवाना नहीं आखिर को दीवाना भी था 
भूलने पर उस को जब आया तो पहचाना भी था 

जानिया किस शौक में रिश्ते बिछड़ कर रह गए 
काम तो कोई नहीं था पर हमें जाना भी था 

अजनबी-सा एक मौसम एक बेमौसम-सी शाम 
जब उसे आना नहीं था जब उसे आना भी था 

जानिए क्यूँ दिल कि वहशत दरमियां में आ गयी 
बस यूँ ही हम को बहकना भी था बहकाना भी था 

इक महकता-सा वो लम्हा था कि जैसे इक ख्याल 
इक ज़माने तक उसी लम्हे को तड़पना भी था 

- जॉन एलिया

Tuesday, January 8, 2019

एकांत के इस उत्सव में...श्वेता सिन्हा

साँझ को नभ के दालान से
पहाड़ी के कोहान पर फिसलकर
क्षितिज की बाहों में समाता सिंदुरिया सूरज,
किरणों के गुलाबी गुच्छे
टकटकी बाँधें खड़े पेड़ों के पीछे उलझकर
बिखरकर पत्तों पर
अनायास ही गुम हो जाते हैंं,
गगन के स्लेटी कोने से उतरकर
मन में धीरे-धीरे समाता विराट मौन
अपनी धड़कन की पदचाप सुनकर चिंहुकती
अपनी पलकों के झपकने के लय में गुम
महसूस करती हूँ एकांत का संगीत
चुपके से नयनों को ढापती
स्मृतियों की उंगली थामे
मैं स्वयं स्मृति हो जाती हूँ
एक पल स्वच्छंद हो 
निर्भीक उड़कर 
सारा सुख पा लेती हूँ,
नभमंडल पर विचरती चंचल पंख फैलाये
भूलकर सीमाएँ
कल्पवृक्ष पर लगे मधुर पल चखती
सितारों के वन में भटकती
अमृत-घट की एक बूँद की लालसा में
तपती मरुभूमि में अनवरत,
दिव्य-गान हृदय के भावों का सुनती
विभोर सुधी बिसराये
घुलकर चाँदनी की रजत रश्मियों में
एकाकार हो जाती हूँ
तन-मन के बंधनों से मुक्त निमग्न 
सोमरस के मधुमय घूँट पी
कड़वे क्षणों को विस्मृत कर
चाहती हूँ अपने
एकांत के इस उत्सव में
तुम्हारी स्मृतियों का
चिर स्पंदन।
-श्वेता सिन्हा

Monday, January 7, 2019

मेरे पर निकलने लगते हैं..........राहत इन्दोरी

पुराने शहर के मंजर निकलने लगते है 
ज़मी जहा भी खुले, घर निकलने लगते है

मैं खोलता हूँ सदफ मोतियों के चक्कर में 
मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते है 

हसीन लगते है जाडो में सुबह के मंजर 
सितारे धूप पहन कर जब निकलने लगते हैं 

बुरे दिनो से बचाना मुझे मेरे मौला 
करीबी दोस्त भी बचकर निकलने लगते हैं

बुलन्दियो का तसव्वुर भी खुब होता हैं 
कभी-कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं 

अगर ख्याल भी आए कि तुझको खत लिखू 
तो घोसले से कबूतर निकलने लगते हैं। 
- राहत इन्दोरी

Sunday, January 6, 2019

माँग का मौसम....अपर्णा वाजपेई

प्रेम की मूसलाधार बारिश से,
हर बार बचा ले जाती है ख़ुद को,
वो तन्हा है........
है प्रेम की पीड़ा से सराबोर,
नहीं बचा है एक भी अंग इस दर्द से आज़ाद।
जब-जब बहारों का मौसम आता है,
वो ज़र्द पत्ते तलाशती है ख़ुद के भीतर,
हरियाले सावन में अपना पीला चेहरा...

छुपा ले जाती है बादलों की ओट,
कहीं बरस न पड़े.....
उसके अंतस का भादों;
पलकों की कोर से।

माँग में;
पतझड़ का बसेरा हुआ जब से,
सूख गयी है वो....
जेठ के दोपहर सी;
कि अब, बस एक ही मौसम बचा है
उसके आस-पास
वैधव्य का।
-अपर्णा बाजपेई

Saturday, January 5, 2019

तुझमें नयापन क्या है .......फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

ऐ नए साल बता, तुझमें नयापन क्या है 
हर तरफ़ ख़ल्क़ ने क्यूँ शोर मचा रक्खा है


रौशनी दिन की वही, तारों भरी रात वही 
आज हमको नज़र आती है हर इक बात वही


आसमाँ बदला है, अफ़सोस, ना बदली है ज़मीं 
एक हिंदसे का बदलना कोई जिद्दत तो नहीं


अगले बरसों की तरह होंगे क़रीने तेरे 
किसको मालूम नहीं बारह महीने तेरे


जनवरी, फ़रवरी और मार्च पड़ेगी सर्दी 
और अप्रैल, मई, जून में होगी गर्मी


तेरा मन दहर में कुछ खोएगा, कुछ पाएगा 
अपनी मीआद बसर करके चला जाएगा


तू नया है तो दिखा सुबह नयी, शाम नयी 
वरना इन आँखों ने देखे हैं नए साल कई


बेसबब देते हैं क्यूँ लोग मुबारकबादें 
ग़ालिबन भूल गए वक़्त की कड़वी यादें


तेरी आमद से घटी उम्र जहाँ में सब की 
'फ़ैज़' ने लिक्खी है यह नज़्म निराले ढब की
-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Friday, January 4, 2019

क्षणिकाएँ....श्वेता सिन्हा

ख्वाहिशें
रक्तबीज सी
पनपती रहती है
जीवनभर,
मन अतृप्ति में कराहता
बिसूरता रहता है
अंतिम श्वास तक।

--*--*--

मौन
ब्रह्मांड के कण कण
में निहित।
अभिव्यक्ति
होठों से कानों तक
सीमित नहीं,
अंतर्मन के
विचारों के चिरस्थायी शोर में
मौन कोई नहीं हो सकता है।

--*--*--

दुख
मानव मन का
स्थायी निवासी है
रह रह कर सताता है
परिस्थितियों को
मनमुताबिक
न देखकर।

--*--*--

बंधन
हृदय को जोड़ता
अदृश्य मर्यादा की डोर है।
प्रकृति के नियम को
संतुलित और संयमित
रखने के लिए।

--*--*--

दर्पण
छलावा है
सिवाय स्वयं के
कोई नहीं जानता
अपने मन के
शीशे में उभरे
श्वेत श्याम मनोभावों को।

--*--*--
-श्वेता सिन्हा



Thursday, January 3, 2019

जश्न है हर सू , साल नया है ...... सतपाल 'ख़याल'

जश्न है हर सू , साल नया है
हम भी देखें क्या बदला है

गै़र के घर की रौनक है वो
अब वो मेरा क्या लगता है

दुनिया पीछे दिलबर आगे
मन दुविधा मे सोच रहा है

तख्ती पे 'क' 'ख' लिखता वो-
बचपन पीछे छूट गया है

नाती-पोतों ने जिद की तो
अम्मा का संदूक खुला है

याद ख्याल आई फिर उसकी
आँख से फिर आँसू टपका है

दहशत के लम्हात समेटे
आठ गया अब नौ आता है
-सतपाल 'ख़याल'