Thursday, May 9, 2013

"मातृ दिवस" ...........यशोदा



हर वर्ष की तरह आज..
"मातृ दिवस"
मनाया जा रहा है
बस एक दिन.....
माँ का सम्मान किया जाता है


 

क्या माँ..........
वो इसी एक दिन....... 
के लिये होती है
बाकी के....
तीन सौ चौंसठ दिन
वो शायद 
चाकरी करती है....
अपने बच्चों की...
अपने पति की..
निःस्वार्थ भावना लिये
और देर रात...
दुबक जाती है...
घर के किस कोने में
और संचय करती है
बल...
आने वाले कल के लिये 

--यशोदा

12 comments:

  1. Naman apki lekhni ko jo maa ki vyatha kah pai..._____/\____

    ReplyDelete
  2. ma ki vytha katha ki sundar aur marmsparshi prastuti,

    ReplyDelete
  3. sundar aur marmsparshi prastuti,(hindi me likhne ka vystha kijiye ,Yashoda JI)

    ReplyDelete
  4. जीती कम जागती ज्यादा माँ

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन... माँ की सुंदर भावपूर्णरचना !!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन... माँ की सुंदर भावपूर्णरचना !!

    ReplyDelete
  7. माँ की सुंदर भावपूर्णरचना !

    ReplyDelete
  8. बहुत भाव प्रधान रचना ...सिस्टर

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  10. भावमय करते शब्‍द ... अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  11. सही कहा आपने

    ReplyDelete