Wednesday, February 1, 2017

फिर से चांदी उग आई है...शम्भू नाथ

Image result for बसंत ऋतु
अलौकिक आनंद अनोखी छटा।  
अब बसंत ऋतु आई है।  
कलिया मुस्काती हंस-हंस गाती।  
पुरवा पंख डोलाई है।  

महक उड़ी है चहके चिड़िया।
भंवरे मतवाले मंडरा रहे हैं।  
सोलह सिंगार से क्यारी सजी है।  
रस पीने को आ रहे हैं  

लगता है इस चमन बाग में। 
फिर से चांदी उग आई है।। 
अलौकिक आनंद अनोखी छटा।  
अब बसंत ऋतु आई है।    

कलिया मुस्काती हंस-हंस गाती।  
पुरवा पंख डोलाई है।

-शम्भू नाथ

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना ...
    वसंत पंचमी की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 02-02-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2588 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,printing and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract

    ReplyDelete