Tuesday, February 14, 2017

तुम भी न बस कमाल हो....डॉ. जेन्नी शबनम
















धत्त! 
तुम भी न 
बस कमाल हो! 
न सोचते 
न विचारते 
सीधे-सीधे कह देते 
जो भी मन में आए 
चाहे प्रेम 
या ग़ुस्सा 
और नाराज़ भी तो बिना बात ही होते हो 
जबकि जानते हो 
मनाना भी तुम्हें ही पड़ेगा 
और ये भी कि 
हमारी ज़िन्दगी का दायरा 
बस तुम तक 
और तुम्हारा 
बस मुझ तक 
फिर भी अटपटा लगता है 
जब सबके सामने 
तुम कुछ भी कह देते हो 
तुम भी न 
बस कमाल हो!
-डॉ. जेन्नी शबनम
jenny.shabnam@gmail.com

8 comments:

  1. कविता में आलोचना से ज़्यादा प्यार छुपा है, अपनापन छुपा हुआ है. कमाल की कविता है. इसे पढ़ने के बाद सोचना पड़ रहा है कि दाम्पत्य-जीवन में हुई नोंक-झोंक में हम ऐसे ही रिश्तों की मिठास क्यूँ नहीं खोज लेते. बहुत खूब डॉक्टर जेन्नी शबनम !

    ReplyDelete
  2. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,prinitng and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract

    ReplyDelete
  3. दिनांक 15/02/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस प्रस्तुति में....
    सादर आमंत्रित हैं...

    ReplyDelete
  4. प्रेम की निश्छलता और समर्पण को उकेरती मनभावन रचना.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कविता

    ReplyDelete