Thursday, September 13, 2012

गधे ज़ाफ़रान में कूद रहे है.........सिकन्दर खान

चारगाह में घोडों के लिये घास नहीं,
लेकिन गधे ज़ाफ़रान में कूद रहे है

 कैसे कैसे दोस्त हैं कैसे कैसे धोखे
चबा रहे हैं अंगूर बता अमरूद रहे हैं

ना जाने खो गया है किस अज़ब अन्धेरे में
आंख बन्द करके तलाश अपना वज़ूद रहे हैं

उधार लिये थे चंद लम्हे पिछ्ले जनम में
अभी तक चुका उनका सूद रहे हैं

मकान बेच कर खरीदी थी तोप कोमल ने
ज़मीन बेच के खरीद उसका बारूद रहे हैं


--सिकन्दर खान


26 comments:

  1. नए मुहावरे की रचना है जिसके कथ्य की परिणति इन शब्दों में बहुत अच्छी लगी-
    मकान बेच कर खरीदी थी तोप कोमल ने
    ज़मीन बेच के खरीद उसका बारूद रहे हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. सिकन्दर है तो रचना भी सिकन्दर ही होगी न
      आभार

      Delete
  2. लोगों के जबसे बने, गधे सधे से बाप ।

    मौज कर रहे हैं गधे, घोड़े रस्ता नाप ।

    घोड़े रस्ता नाप, कोयला ही है सोना ।

    सारे घोड़े बेंच, पड़ा सोना मत रोना ।

    रविकर मिटा वजूद, सूद का झंझट भोगो ।

    बेचो खेत जमीर, खरीदो तोपें लोगों ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई
      आपने तो नई कविता ही लिख दी
      धन्यवाद

      Delete
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर भाई

      Delete
  4. वाह ... बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुकराना नज़र करती हूँ दीदी

      Delete
  5. आपकी बात में सार है.
    यह दिल को छू गयी है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. फैय्याज भाई
      सलाम
      शुक्रिया

      Delete
    2. माफी
      आपका नाम गलत लिख दी

      Delete
  6. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रविकर भाई

      Delete
  7. उधार लिये थे चंद लम्हे पिछ्ले जनम में
    अभी तक चुका उनका सूद रहे हैं.....
    ....................
    बहुत दूर तक प्रहार करती सोच
    सिकंदर साहब को बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभ प्रभात राहुल
      आभार

      Delete
  8. Replies
    1. शुभ प्रभात दीदी
      आभार

      Delete
  9. बहुत बढ़िया प्रस्तुति शेयर करने के लिए आभार यशोदा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आभार धन्यवाद

      Delete
  10. अशोक चक्रधर जी की एक कविता 'गधे खा रहे हैं च्वनप्रश देखो' याद आ गयी :)


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भाई
      ये वही रचना है हिन्दी फोरम वाली

      Delete
  11. Replies
    1. धन्यवाद महेन्द्र भाई

      Delete
  12. आपकी बात में दम है
    आजकल तो गधे ही जाफरान में कूद रहे हैं ।

    ReplyDelete