Wednesday, September 19, 2018

तुम …-मंजू मिश्रा

अक्सर 
सोचती हूँ... 
तुम्हे 
शब्दों में समेट लूँ 
या फिर
बाँध दूँ ग़ज़ल में 
न हो तो 
ढाल दूँ 
गीत के स्वरों में ही 
मगर 
कहाँ हो पाता है 
तुम तो 
समय की तरह 
फिसल जाते हो 
मुट्ठी से...

- मंजू मिश्रा



22 comments:

  1. है ऐसा कोई
    जो अपने आप सुर बन जाये बनाना ना पड़े
    आपके लबों का.
    है ऐसा कोई जो अपने आप गजल में बंध जाए;बांधना ना पड़े..
    अगर है तो फिर समय से तुलना नहीं करनी पड़ेगी.
    खुबसुरत अभिव्यक्ति.
    आत्मसात 

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रोहितास जी !

      Delete
  2. खूबसूरत रचना जी

    ReplyDelete
  3. नमस्ते,
    आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
    गुरुवार 20 सितम्बर 2018 को प्रकाशनार्थ 1161 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।

    प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
    सधन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. लाजवाब भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुधा जी !

      Delete
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 20.9.18. को चर्चा मंच पर चर्चा - 3100 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कविता जी !

      Delete
  7. बेहतरीन अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सतीश जी !

      Delete
  8. बहुत सुंदर रचना 👌

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद यशोदा ! मेरी पोस्ट को यहाँ प्रस्तुत करके अापने नए पाठकों से परिचय करवाया । बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दीदी
      सादर नमन
      आभार
      आपके पदरज से मेरी धरोहर पवित्र हुई
      सादर

      Delete
  10. वाह मंजू जी सुन्दर उद्गार बधाई कैसी हैं

    ReplyDelete