Friday, August 23, 2013

चलो मोदी को नहीं लाते..................बलवीर कुमार


चलो मोदी को नहीं लाते हैं.....|
कोई और विकल्प बताते है.....||

चलो नेहरु को ले आते हैं, 
एक और पाकिस्तान बनाते हैं.....|

हम खून पसीना बहा कर आयकर चुकायेगे,
और वो अपना कोट विदेश में धुलवायंगे......||

चलो हाथी पर भरोसा जताते हैं, 
जो लडते हैं धर्म के नाम पर.....|
उन्हें जात के नाम पर लड़वाते हैं......||

चलो साइकल में हवा भरवाते हैं, 
शहर में जंगल राज चलवाते हैं.....|
अनपढ़ से आइयाशी और पढ़े लिखो से
रिक्शा चलवाते है.....||

या सर्वोतम विकल्प फिर से कांग्रेस को लाते हैं,
बच्चों से राहुल की जीवनी पढवाते हैं....|
आँखों पर पट्टी बांध कर खाई में कूद जाते है.......||

आज समझ आया क्यूँ अक्सर विदेशी,
कुत्तों और भारतीयों पर रोक लगाते हैं.....|
क्यूंकि कुत्ते घी और हम शांति, सत्य,सकून
और इज्ज़त हजम नहीं कर पाते हैं....||

एक आजम खां जो भारत माँ को डायन कहता है.....|
एक दिग्विजय जो हर औरत को टंच समझते हैं.....||

किसी को भी सत्ता में लाते हैं, 
बाऊ बाऊ चिलाते है....|
नहीं मोदी को नहीं लाते हैं, 
कोई और विकल्प बताते है.....||

--बलवीर कुमार
balvir.kumar@expressindia.com

15 comments:

  1. बहुत बढ़िया है आदरेया-
    रचयिता को भी बधाई-

    कसके धो कर रख दिया, पूरा दिया निचोड़ |
    मुद्रा हुई रसातली, भोगें नरक करोड़ |
    भोगें नरक करोड़ , योजना बनी लूट की |
    पाई पाई जोड़, गरीबी लगा टकटकी |
    पर पाए ना लाभ, व्यवस्था देखे हँस के |
    मोदी पर संताप., मचाती सत्ता कसके ||

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर व्यंग्य रचना।

    ReplyDelete
  5. हकीकत बयान करती व्यंगात्मक रचना !!

    ReplyDelete
  6. सच है किस पर भरोसा करें
    राष्ट्र हित में अब सोचता कौन है ....
    बढ़िया व्यंग्य !

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना शनीवार यानी 24/08/2013 के ब्लौग प्रसारण में मेरा पहला प्रसारण पर लिंक की गयी है...
    इस संदर्व में आप के सुझावों का स्वागत है।

    ReplyDelete
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शनिवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर व्यंग्य

    ReplyDelete
  10. कसके धो कर रख दिया, पूरा दिया निचोड़ |
    मुद्रा हुई रसातली, भोगें नरक करोड़ |
    - रविकर जी
    के कथन से सहमत !

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन रचना ...... बिना निरमा.....एरियल डाले ही धो डाला ...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना , बहुत समय से ऐसी ही कुछ रचनाओ का इन्तजार था।

    ReplyDelete
  13. जनता के असमंजस का सही छाया चित्र. साधुवाद.

    ReplyDelete