Saturday, August 31, 2013

विरह-वेदना..................... शैफाली गुप्ता



1)  
चांद सजाऊं
 या आकाश बिछाऊं
न पाती तुम्हें

2)
 
तुम हो आत्मा
 तुम्हीं हो धड़कन
फिर भी कहां?

3)
 
नीला आकाश- 
उसके विस्तार में 
डूबती-सी मैं

4)

क्या याद तुम्हें 
आसमान का रंग 
नीलिमा-सी मैं

5)

स्याही का रंग 
उकेरती पन्नों पे 
सोचती तुम्हें

6)

स्पर्श तुम्हारा
 स्पंदन बन जीता 
आत्मा में मेरी

7)

रंग-विहीन 
जो जीवन हो मेरा
 रंग तुम्हीं तो

8)
 
तेरा न होना 
या तेरा क्यूं न होना 
प्रश्न ये मेरा

9)

नए-पुराने 
शब्द-ग्रंथ तुम्हीं हो 
फिर भी कहां।


--शैफाली गुप्ता
एन.आर. आई.

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    ---
    हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {साप्ताहिक चर्चामंच} पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में दूसरी चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 को है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
    ---
    सादर ....ललित चाहार

    ReplyDelete
  2. खुबसूरत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति है आदरणीया-
    शुभकामनायें -

    ReplyDelete
  4. शैफाली जी सुन्दर हाइकू साझा करने के लिए आभार ,,,

    RECENT POST : फूल बिछा न सको

    ReplyDelete
  5. सुन्दर अभिवयक्ति....

    ReplyDelete