Monday, September 8, 2014

हिलती हैं दीवारें...............डॉ. दीनदयाल दिल्लीवार
















रोज,
हर रोज ही
हिलती हैं
दीवारें
मेरे घर की
मारा जाता है
अनजानें ही
जब कोई-
आदमी
तो कांपता है
नक्शा
हिन्दुस्तान का

डॉ. दीनदयाल दिल्लीवार,
बालोद, जिला दुर्ग, छत्तीसगढ़
.........अवकाश, नवभारत

8 comments:

  1. सुन्दर और गंभीर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. मारा जाता है,अनजानें ही
    जब कोई-
    आदमी
    तो कांपता है
    नक्शा
    हिन्दुस्तान का( गंभीर अभिव्यक्ति)

    ReplyDelete
  3. सच में कांपता है नक्षा हिन्दुस्तान का

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर चित्रण मानस के मन में बैठे डर का

    ReplyDelete
  5. सही और सटीक प्रस्तुति

    स्वागत है मेरी नवीनतम कविता पर रंगरूट
    अच्छा लगे तो ज्वाइन भी करें
    आभार।

    ReplyDelete
  6. हमारी आन बान शान जुडी है हिंदुस्तान से तो निश्चित ही इसकी शान में बट्टा मतलब अपने घर पर ..
    बहुत सही ..

    ReplyDelete