Saturday, March 24, 2018

एक एहसास अनछुआ सा.....कुसुम कोठारी


झील के शांत पानी मे
शाम की उतरती धुंधली उदासी
कुछ और बेरंग
श्यामल शाम का सुनहरी टुकडा

कहीं क्षितिज के क्षोर पर पहुंच   
काली कम्बली मे सिमटता
निशा के उद्धाम अंधकार से  
एकाकार हो
जैसे पर्दाफाश  करता
अमावस्या के रंग हीन
बेरौनक आसमान का
निहारिकाऐं जैसे अवकाश पर हो

चांद के साथ कही सुदूर प्रांत मे 
ओझल कहीं किसी गुफा मे विश्राम करती
छुटपुट तारे बेमन से टिमटिमाते
धरती को निहारते मौन
कुछ कहना चाहते,
शायद धरा से मिलन का
कोई सपना हो
जुगनु दंभ मे इतराते
चांदनी की अनुपस्थिति मे
स्वयं को चांद समझ डोलते

चकोर व्याकुल कहीं
सरसराते अंधेरे पात मे दुबका
खाली सूनी आँखों मे
एक एहसास अनछुआ सा
अदृश्य से गगन को
आशा से निहारता
शशि की अभिलाषा मे
विरह मे जलता
कितनी सदियों
यूं मयंक के मय मे
उलझा रहेगा
इसी एहसास मे
जीता मरता रहेगा
उतरती रहेगी कब तक
शांत झील मे शाम की उदासियां।

-कुसुम कोठारी

7 comments:

  1. बेहद खूबसूरत परिकल्पना... जीवन मानो आपकी रचना में सिमट आया हो..!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (25-03-2017) को "रचो ललित-साहित्य" (चर्चा अंक-2920) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 26 मार्च 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. वाह !!! बहुत खूब ..सुंदर .. शानदार रचना
    मन को छू गई ....अप्रतीम भाव

    ReplyDelete
  5. बहुत शानदार रचना.....
    चाँद रहित आसमान.... रंगहीन अमावस्या.....
    जुगनू का दंभ.....शान्त झील में शाम की उदासियाँ....
    वाह!!!
    सुन्दर शब्द विन्यास से सजी लाजवाब अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. लाजवाब शब्द संयोजन के साथ प्रकृति का अनुपम शब्द चित्र | प्रिय कुसुम जी सस्नेह बधाई |

    ReplyDelete