Wednesday, March 11, 2020

बरसाने की लठामार होली ...नवीन चन्द्र चतुर्वेदी

एक ब्रजभाषा छन्द
महीना पच्चीस दिन दूध-घी उड़ामें और
जाय कें अखाडें दण्ड-बैठक लगामें हैं॥

मूछ'न पे ताव दै कें जंघ'न पे ताल दै कें
नुक्कड़-अथाँइ'न पे गाल हू बजामें हैं|

पिछले बरस बारौ बदलौ चुकामनौ है,
पूछ मत कैसी-कैसी योजना बनामें हैं|

लेकिन बिचारे 'वीर' बरसाने पौंचते ही,
लट्ठ खाय गोपि'न सों घर लौट आमें हैं||
-नवीन चन्द्र चतुर्वेदी

4 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 11 मार्च 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 12.03.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3638 में दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की गरिमा बढ़ाएगी

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  3. वाह ,बहुत बढ़िया

    ReplyDelete