Friday, October 16, 2020

तस्वीर यह बोली ...अलका गुप्ता 'भारती'



मुखर हो जाएं जहाँ वाचाल मौन ।
तस्वीरें वह भला न कुरेदे कौन ॥ 

पन्ना पलटे चेहरे का हर भाव ।
देकर दगा कभी प्रीत कभी दाँव ॥

जीवन ज्यों हो मुखौटों की पुस्तक ।
मृदुल कभी नीरसता की है दस्तक ॥

अंतर्मन का है ..प्रतिबिम्ब दहकता । 
जग संग्राहलय ..यह हँसता गाता ।

दंश देते ..अवसाद विषाद.. जड़ित ।
हैं शान्ति अभिलाषी मन गहन गणित॥ 

-अलका गुप्ता 'भारती'

6 comments: