Thursday, June 29, 2017

अंकुरित आशाएँ.....सुरेन्द्र कुमार 'अभिन्न'










मेरी आत्मा की बंजर भूमि पर,
कठोरता का हल चला कर,
तुमने ये कैसा बीज बो दिया? 
क्या उगाना चाहते हो 
मुझमें तुम,
ये कौन अँगड़ाई सी लेता है, 
मेरी गहराइयों में,
कौन खेल सा करता है,
मेरी परछाइयों से,
क्या अंकुरित हो रहा है इन अंधेरों से...?
क्या उग रहा है सूर्य कोई पूर्व से???
-सुरेन्द्र कुमार 'अभिन्न'

7 comments:

  1. दिनांक 30/06/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में शुक्रवार 30 जून 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद! 

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर कविता है।






    ReplyDelete
  4. आशाओं का अंकुरण होते रहना ही जिजीबिषा का खाद -पानी है। हृदयस्पर्शी रचना।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना आदरणीय ।

    ReplyDelete