Monday, June 19, 2017

हर पल याद करता है....अज्ञात रचनाकार

ये वक्त भी नूर को 
बेनूर बना देता है।
छोटे से जख्म को 
नासूर बना देता है।

कौन चाहता है 
अपनों से दूर रहना।
मगर वक्त सब को 
मजबूर बना देता है।

रहते है दूर मगर दिल 
उन्हे हर पल याद करता है।
दिल हर पल याद में 
उनकी उदास रहता है।

काश कि वक्त भी 
हमारे हाथ में होता।
ना कोई दूर होता 
ना दिल कभी उदास होता॥
- अज्ञात रचनाकार 

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (20-06-2017) को
    "पिता जैसा कोई नहीं" (चर्चा अंक-2647)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. वाह !!
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब। सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना |

    ReplyDelete