Saturday, September 7, 2013

बदनाम हुआ क्यों नाम 'संत'..............डॉ. रामकृष्ण सिंगी



क्यों गूंज रहे हैं दिग-दिगंत।
क्यों उछल रहे मुद्दे अनंत।।
बदनाम हुआ क्यों नाम 'संत'।
कब होगा पाखंडों का अंत ।।1।।
जरा सोचो तो!


राजनीति-धर्म की घाल-मेल ।
बरसती लक्ष्मी के घिनौने खेल।।
नैतिकता हुई शोबाजों की रखैल।
आमजन उदार, सब रहा झेल ।।2।।
जरा सोचो तो!


इक्कीसवीं सदी में भी (घोर) अंधविश्वास ।
शास्त्रों को मिला अज्ञातवास।।
श्रद्धाएं छुपी मन्नतों के आसपास।
नई पीढ़ी को लगने लगा सब बकवास ।।3।।
जरा सोचो तो!


श्रद्धा सीता का हो रहा हरण।
निष्ठा की द्रोपदी चीख रही।।
(राम गये हैं स्वर्ण-मृग के पीछे।)
पांडव बैठे कर नयन नीचे ।।)
कोई तो बचाओ रे इनको।
रक्षा की मांग ये भीख रहीं ।।4।।
जरा सोचो तो!


या कह दो सब बीमार हैं हम।
चुप रह कर हिस्सेदार हैं हम।।
जो रोता है उसे रोने दो।
ये भव्य तमाशे होने दो।।
श्रद्धा को पाखंड खा जायेगा।
तो कौन सा प्रलय आ जायेगा ।।5।। 
क्या यही सोच है ?


गर तंत्र-मंत्र का पाखंडी।
कोहरा यों ही गहरायेगा।।
(भोली) अबलाओं का यो ही शोषण होगा
और धर्म रसातल जाएगा 6।।


(पर) न्याय की नजर में समाजघात के
गर सच्चे पैमां होंगे।
कई बैठे हैं जो ऊंचे मंचों पर
वे 'उस घर' के मेहमां होंगे ।।7।।

(आमीन!)

डॉ. रामकृष्ण सिंगी, 
साहित्यकार, कवि, लेखक, महू

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर------- कोई तो बचाओ रे इनको

    ReplyDelete
  2. (पर) न्याय की नजर में समाजघात के
    गर सच्चे पैमां होंगे।
    कई बैठे हैं जो ऊंचे मंचों पर
    वे 'उस घर' के मेहमां होंगे .
    ---सुन्दर--

    ReplyDelete
  3. गर तंत्र-मंत्र का पाखंडी।
    कोहरा यों ही गहरायेगा।।
    (भोली) अबलाओं का यो ही शोषण होगा
    और धर्म रसातल जाएगा
    बहुत खूब व अच्छी सोच

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. "नादान परिंदे ब्लॉगर" - हिंदी का एक नया ब्लॉग संकलक" पर अपनी उपस्तिथि दर्ज कराकर हमे इसे सफल ब्लॉगर बनाने में हमारी मदद करें। अपने ब्लॉग को जोड़ें एवं अपने सुझाव हमे बताएं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार-8/09/2013 को
    समाज सुधार कैसे हो? ..... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः14 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete