Friday, September 20, 2013

वहीं चंद मोती भी बिखरे मिलेंगे.............अस्तित्व "अंकुर"


जहां भी तुम्हें दिल के टुकड़े मिलेंगे,
वहीं चंद मोती भी बिखरे मिलेंगे,

मैं बैठा बुलंदी पे यूं ही नहीं हूँ,
हरे हों न हों जख्म गहरे मिलेंगे,

मेरे दिल की गहराइयों में जो उतरे,
तो दरिया में सागर के कतरे मिलेंगे,

नया इक नगर बस गया है जहां पर,
कई गाँव भी तुमको उजड़े मिलेंगे,

मेरे घर में इंसान मिलने हैं मुश्किल,
कई बेज़ुबान और बहरे मिलेंगे,

त’आल्लुक नहीं जिनसे अब मेरा कोई,
वो बुनियाद में मेरी ठहरे मिलेंगे,

भले सांस लेने में आती हो दिक्कत,
मगर जब मिलोगे तो हंस के मिलेंगे,

मेरी शायरी और तेरे जख्म “अंकुर”,
ग़ज़ल बन के सारे जहां से मिलेंगे,

-अस्तित्व "अंकुर"
सौजन्यः अन्सार कम्बरी फेसबुक से

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (20-09-2013) "हिन्दी पखवाड़ा" : चर्चा - 1374 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर !!!

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शनीवार यानी 21 सितंबर 2013 को ब्लौग प्रसारण पर लिंक की जा रही है...आप भी इस प्रसारण में सादर आमंत्रित है... आप इस प्रसारण में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...

    उजाले उनकी यादों के पर आना... इस ब्लौग पर आप हर रोज 2 रचनाएं पढेंगे... आप भी इस ब्लौग का अनुसरण करना।

    आप सब की कविताएं कविता मंच पर आमंत्रित है।
    हम आज भूल रहे हैं अपनी संस्कृति सभ्यता व अपना गौरवमयी इतिहास आप ही लिखिये हमारा अतीत के माध्यम से। ध्यान रहे रचना में किसी धर्म पर कटाक्ष नही होना चाहिये।
    इस के लिये आप को मात्रkuldeepsingpinku@gmail.com पर मिल भेजकर निमंत्रण लिंक प्राप्त करना है।



    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]


    ReplyDelete
  4. बेहद सुंदर...रचना...

    ReplyDelete