Wednesday, September 4, 2013

इस मफ़लिसी के दौर से बचकर रहा करे..........अनिरुध्द सिन्हा



इस मफ़लिसी के दौर से बचकर रहा करे
बाहर ज़मीं की धूल है अंदर रहा करे ।

दहलीज़ को खंगालती रहती हैं बारिशें
मिट्टी के इन घरों में भी छप्पर रहा करे ।

जिससे कि चाँद ख्वाब के दामन में रह सके
ऑंखों में वो यक़ीन का मंज़र रहा करे ।

रिश्तों को ऑंख से नहीं इतना गिराइए
कुछ तो बिछुड़ के मिलने का अवसर रहा करे ।

गलियों में एहतियात के नारों के बावजूद
तहदारियों के हाथ में पत्थर रहा करे ।

-अनिरुध्द सिन्हा

6 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब..आभार यशोदा जी..

    ReplyDelete
  2. बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. "रिश्तों को ऑंख से नहीं इतना गिराइए
    कुछ तो बिछुड़ के मिलने का अवसर रहा करे"....बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete