Thursday, September 12, 2013

पर राष्ट्र के माथे की बिंदी है ये हिन्दी...................मृणालिनी घुले








संस्कृत की एक लाड़ली बेटी है ये हिन्दी।
बहनों को साथ लेकर चलती है ये हिन्दी।

सुंदर है, मनोरम है, मीठी है, सरल है,
ओजस्विनी है और अनूठी है ये हिन्दी।

पाथेय है, प्रवास में, परिचय का सूत्र है,
मैत्री को जोड़ने की सांकल है ये हिन्दी।

पढ़ने व पढ़ाने में सहज है, ये सुगम है,
साहित्य का असीम सागर है ये हिन्दी।

तुलसी, कबीर, मीरा ने इसमें ही लिखा है,
कवि सूर के सागर की गागर है ये हिन्दी।

वागेश्वरी का माथे पर वरदहस्त है,
निश्चय ही वंदनीय मां-सम है ये हिंदी।

अंग्रेजी से भी इसका कोई बैर नहीं है,
उसको भी अपनेपन से लुभाती है ये हिन्दी।

यूं तो देश में कई भाषाएं और हैं,
पर राष्ट्र के माथे की बिंदी है ये हिन्दी।

- मृणालिनी घुले

16 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी ... मृणालिनी जी, सच लिखा है आपने कि हिंदी ही राष्ट्र के माथे की बिंदी है .. ह्रदय को छू लेने वाली प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर और प्रभावी प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी ..सच कहा..राष्ट्र के माथे की बिंदी है ये हिन्दी।

    ReplyDelete
  5. आपने बहुत अच्छा लिखा है। इसीलिए गायत्री मंत्र के सबसे ज़्यादा अनुवाद हिंदी में ही हैं, शायद। देखिए-
    http://vedquran.blogspot.in/2012/03/3-mystery-of-gayatri-mantra-3.html

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 13/09/2013 को
    आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः17 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  7. नमस्कार आपकी यह रचना कल शुक्रवार (13-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर. राष्ट्र के माथे की बिंदी है ये हिन्दी.

    ReplyDelete
  10. “अजेय-असीम” -
    बहुत ही सुंदर लेखन ,
    हिंदी ही हैं ,जो सबको एक सूत्र में बाधती हैं |

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब...हिंदी दि‍वस की अग्रि‍म बधाई स्‍वीकारें

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना . हिंदी दिवस की बधाई

    ReplyDelete
  13. सुन्दर भाव सुन्दर अर्थ। सौदेश्य लेखन।

    ReplyDelete
  14. पहर वसन अंगरेजिया ,हिंदी करे विलाप ,

    अब अंग्रेजी सिमरनी जपिए प्रभुजी आप।

    पहर वसन अंगरेजिया उछले हिंदी गात ,

    नांच बलिए नांच ,देदे सबकू मात।

    अब अंग्रेजी हो गया हिंदी का सब गात ,

    अपनी हद कू भूलता देखो मानुस जात।


    सुन्दर भाव सुन्दर अर्थ। सौदेश्य लेखन।

    ReplyDelete