Saturday, August 16, 2014

हमारी याद आएगी...........रचनाकार :: अज्ञात



 











किसी से चोट खाओगे
हमारी याद आएगी,
तलाशोगे एक कतरा प्यार का,
किसी से कह न पाओगे,

तलाशोगे मुझे फिर तुम,
दिलों की तनहाइयों में,
कभी जब तनहा बैठोगे,
हमारी याद आएगी.

लौटा हूँ बहुत मायूस होकर
मैं तेरे दर से,
कभी खामोश बैठोगे
हमारी याद आएगी

समेट लेता सारे अश्क
तेरी आँखों की कोरों से,
कभी जब अश्क देखोगे
हमारी याद आएगी...!!

रचनाकार :: अज्ञात

प्रस्तुतिकरण :: सोनू अग्रवाल




http://yashoda4.blogspot.in/2012/08/blog-post_30.html

7 comments:

  1. मधु पवन के सहज भाव के भोग से,
    मन सुमन की कली को खिला लीजिए।
    मन भटक कर न जाये विषय बात में,
    राह में फूल कांटे हैं बिखरे पड़े।
    भक्ति सरिता की धारा धवल वह रही,
    मन के भावों को मज्जन करा लीजिए ॥

    ReplyDelete
  2. सुंदर कविता

    ReplyDelete
  3. समेट लेता सारे अश्क
    तेरी आँखों की कोरों से,
    कभी जब अश्क देखोगे
    हमारी याद आएगी...!!

    मन को छूती भावुक रचना
    बहुत सुन्दर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर --


    आग्रह है --
    आजादी ------ ???

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 18/08/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
  5. सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete