Thursday, May 29, 2014

सही बात कहने के सुख के अपने कतरे हैं.......यश मालवीय


लोग भी अपने सिमटेपन में बिखरे-बिखरे हैं
राजमार्ग भी,पगडण्डी से ज्यादा संकरे हैं।

हर उपसर्ग हाथ मलता है, प्रत्यय झूठे हैं
पता नहीं औषधियों के दर्द अनूठे हैं
आँखे मलते हुए सबेरे केवल अखरे हैं।

पेड़ धुएं का लहराता है अंधियारों जैसा
है भविष्य भी बीते दिनों के गलियारों जैसा
आँखे निचुड़ रहे से उजियारे के क़तरे हैं।

उन्हें उठाते जो जग से उठ जाया करते हैं
देख मजारों को हम शीश झुकाया करते हैं
सही बात कहने के सुख के अपने कतरे हैं।
-यश मालवीय
स्रोतः मधुरिमा

8 comments:

  1. Sometimes truth can break or make a relationship, hence people shy away from speaking truth.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भाव...बहुत खूब...

    ReplyDelete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (30.05.2014) को "समय का महत्व " (चर्चा अंक-1628)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. पेड़ धुएं का लहराता है अंधियारों जैसा
    है भविष्य भी बीते दिनों के गलियारों जैसा
    आँखे निचुड़ रहे से उजियारे के क़तरे हैं।
    बहुत ही सुन्दर रचना

    ReplyDelete