Friday, April 12, 2019

टीस....विजय शंकर प्रसाद

बिन मौसम बारिश का पानी,
कागज की नैया किसकी दीवानी ?

नभ के पत्थर धरा पर कहानी ,
कठोर गड्ढा सड़क पर विवश  जवानी ।

बचपन की याद और मौन वाणी, 
बुढापा तक तो बोल उठा ज्ञानी ।

नदी रचें यात्रा में न आनाकानी,
सिंधु तक जा न शेष मनमानी ।।

प्रकृति तो नहीं कभी भी बेपानी,
गुलाब और शूल से प्रकट नादानी ।

धूल,कीचड़,हवा भी है खानदानी,
धूप और पसीना की भी  मेहरबानी ।।

कुछ तो रहने दो अपनी निशानी,
तनातनी में हर आहट है गुमानी ।

निर्मल निशा भी  सरल नहीं अनजानी , 
तन- मन में पीड़ादायक है भाव बदजुबानी ।‌‌।

आह से वाह रे चाह प्राणी,
अश्क और इश्क क्या स्वप्न अज्ञानी ??

गुलाम की टीस भी पुरानी ,
अभिसारिका अब क्या है ठानी ???

- विजय शंकर प्रसाद. 

6 comments:

  1. सुन्दर सृजन ।

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (13-04-2019) को " बैशाखी की धूम " (चर्चा अंक-3304) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    - अनीता सैनी

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. वाह वाह अनुपम अप्रतिम अलहदा प्रस्तुति।

    ReplyDelete