Tuesday, October 4, 2016

क्षणिकाएँ (हास्य-व्यंग्य).......विशाल शुक्ल

क्षणिकाएँ
(हास्य-व्यंग्य)


पड़ोसियों के प्यार की
कहानी पति को
तब समझ आई
जब पत्नी
पड़ोसी संग हो गई
हवा-हवाई


नेता और सर्प हमें
एक सा जँचता है
क्योंकि एक भूमि में
और दूसरा आस्तीन में
रहकर डँसता है

गिरगिट और नेता का
जन्म-जन्म का नाता है,
क्योंकि रंग बदलना
दोनों को बाख़ूबी आता है।
......
हमने गिरगिट और नेताओं में
गज़ब की विचित्रता पाई है,
लगता है दोनों कुंभ में
बिछड़े भाई हैं।

-विशाल शुक्ल
vishalshuklaom@gmail.com

3 comments: