Saturday, October 1, 2016

अहसास!.........अशोक परुथी "मतवाला"









मुझे 
उनकी यह बात 
बहुत अखरती है,

मुझे...
समय से पहले 
बूढ़ा करती हैं 
मेरी ...
आत्मा को,
झँझोड़ती है 
जब...
कुछ हम-उम्र महिलायें,
दो-तीन बच्चों वाली अम्मायें
मुझे... 
अंकल-अंकल करती हैं!

-अशोक परुथी "मतवाला"
ashok77901@yahoo.com

4 comments:

  1. हा हा । हमें भी कई दादियाँ दादाजी बुलाया करती हैं ।

    ReplyDelete
  2. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-10-2016) के चर्चा मंच "कुछ बातें आज के हालात पर" (चर्चा अंक-2483) पर भी होगी!
    महात्मा गान्धी और पं. लालबहादुर शास्त्री की जयन्ती की बधायी।
    साथ ही शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल रविवार (02-10-2016) के चर्चा मंच "कुछ बातें आज के हालात पर" (चर्चा अंक-2483) पर भी होगी!
    महात्मा गान्धी और पं. लालबहादुर शास्त्री की जयन्ती की बधायी।
    साथ ही शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete