Saturday, March 1, 2014

ज़रूरी नहीं प्यार के लिए तजुर्बा होना.........निधि मेहरोत्रा


ज़रूरी नहीं प्यार के लिए तजुर्बा होना
काफ़ी है ज़िंदगी में बस एक बार होना

मुमकिन नहीं कि कोई हरेक बार सही हो
अबकि जायज़ है तेरा मुझसे ख़फ़ा होना

ठीक हो गया बीमार तेरे दीदार से
यही होता होगा बन्दे का ख़ुदा होना

लबों से उंगली छुआ के तुम पलटो जिसे
अदद ख़्वाहिश है क़िताब का वो सफ़ा होना

मेरे ख़्यालों में तू आज तलक़ कायम है
मेरी तरह तुझे भी न आया जुदा होना

सच अक्सर लोगों को तकलीफ़ देता है
ज़माने में लाजमी झूठ का दवा होना

क़िस्मत में जो लिखा है वो मिलकर रहेगा
इस बार नहीं तो तय अगली मर्तबा होना

कितना भी नाराज़ वो हो जाये मुझसे
एक बोसा औ उसका गुस्सा हवा होना
-निधि मेहरोत्रा 



13 comments:

  1. बहुत सुंदर ...बधाई

    ReplyDelete
  2. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक03/03/2014 यानी आने वाले इस सौमवार को को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    [अगर आप ने अभी तक मंच की सदस्यता नहीं ली है, मेरा आप से निवेदन है कि आप मंच का सदस्य बनकर मंच को अपना स्नेह दें।]

    ReplyDelete
  3. सच अक्सर लोगों को तकलीफ़ देता है
    ज़माने में लाजमी झूठ का दवा होना

    &

    एक बोसा औ उसका गुस्सा हवा होना .....

    सुंदर
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत है हर शे'र.. ढ़ेरों शुभकामनायें शायरा महोदया को.. :-)

    आपका सादर आभार..रचना पढ़वाने हेतु..

    ReplyDelete
  5. हर इक अशआर.. हर इक शे'र उम्दा
    http://oshowin.blogspot.in

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत गज़ल....

    ReplyDelete
  7. jaruri nahi pyar ke liye tazurba hona.....bahut sundar

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खूबसूरत गज़ल है ... उम्दा शेर सभी ...

    ReplyDelete
  9. शानदार प्रस्तुति. से साक्षात्कार हुआ । मेरे नए पोस्ट
    "सपनों की भी उम्र होती है " (Dreams havel life) पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।

    ReplyDelete
  10. शानदार प्रस्तुति. से साक्षात्कार हुआ । मेरे नए पोस्ट
    "सपनों की भी उम्र होती है " (Dreams havel life) पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।

    ReplyDelete