Thursday, March 13, 2014

होली खेलन की झमकन में.................नज़ीर अकबराबादी

जब खेली होली नंद ललन


जब खेली होली नंद ललन हँस हँस नंदगाँव बसैयन में।
नर नारी को आनन्द हुए ख़ुशवक्ती छोरी छैयन में।।
कुछ भीड़ हुई उन गलियों में कुछ लोग ठठ्ठ अटैयन में ।
खुशहाली झमकी चार तरफ कुछ घर-घर कुछ चौप्ययन में।।
डफ बाजे, राग और रंग हुए, होली खेलन की झमकन में।
गुलशोर गुलाल और रंग पड़े हुई धूम कदम की छैयन में।

जब ठहरी लपधप होरी की और चलने लगी पिचकारी भी।
कुछ सुर्खी रंग गुलालों की, कुछ केसर की जरकारी भी।।
होरी खेलें हँस हँस मनमोहन और उनसे राधा प्यारी भी।
यह भीगी सर से पाँव तलक और भीगे किशन मुरारी भी।।
डफ बाजे, राग और रंग हुए, होली खेलन की झमकन में।
गुलशोर गुलाल और रंग पड़े हुई धूम कदम की छैयन में।।

नज़ीर अकबराबादी
जन्म: 1735
निधन: 1830
उपनाम    अकबराबादी
जन्म स्थान    आगरा, उत्तर प्रदेश, भारत

7 comments:

  1. सुन्दर और सामयिक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete

  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (14.03.2014) को "रंगों की बरसात लिए होली आई है (चर्चा अंक-1551)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें, वहाँ आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  4. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी इस विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - दोगला समाज पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  5. aapki sunder holi panktiyon ke saanth
    aapke va aapke samast pariwaar ko holi ki shubh kaamnaayen

    ReplyDelete