Saturday, February 22, 2014

बूढ़ा रिक्शावाला....नवनीत नीरव


उम्र के इस ढलान पर,
जहां जिन्दगी थोड़ी तेज रफ्तार से,
बिना रुकावट के,
फिसलनी चाहिये,
उसकी जिंदगी आज भी,
रुक-रुक कर,
धीमें-धीमें,
बेदम-सी चलती है.

शहर की हरेक गली,
हर मुहल्ले से,
गुजरा है वह अनेक बार,
छोटी-छोटी खुशियां बटोरने की
खातिर,
यह दुर्भाग्य ही तो है उसका,
जो उन्हें संजो न सका आज तक.

जिन बच्चों को स्कूल तक,
पहुंचाया करता था,
जिन बाबुओं को दफ़्तर तक
छोड़ा करता था,
समय के साथ,
सबने उन्नति की,
सबने तरक़्क़ी की,
पर वह आज भी वहीं है,
उसी चौराहे पर,
किसी का इन्तजार करता हुआ,
सबसे पूछता हुआ-
बाबू कहां चलना है ?

ज़्यादा बदलाव तो नहीं देखा
मैंनें उसमें,
सिर्फ़ नाम बदल गया है,
पहचान बदल गई है,
कि जो कल तक कहलाता था
रिक्शेवाला,
अब बुलाते हैं उसे-
बूढ़ा रिक्शावाला....
-नवनीत नीरव

3 comments:

  1. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने...

    ReplyDelete
  2. जीवन का संघर्ष दर्शाती हुई रचना ,बहुत बढियां

    ReplyDelete
  3. एक सच्‍चाई .... भावमय करती पोस्‍ट

    ReplyDelete