Saturday, July 14, 2012

रोने की जगह रखना!............कुमार अनिल

घर की तामीर चाहे जैसी हो
इसमें रोने की जगह रखना!




जिस्म में फैलने लगा है शहर
अपनी तनहाइयाँ बचा रखना!




मस्जिदें हैं नमाजियों के लिए
अपने दिल में कहीं खुदा रखना!




मिलना-जुलना जहाँ जरुरी हो
मिलने-जुलने का हौसला रखना!




उम्र करने को है पचास को पार
कौन है किस का पता ये रखना!


--कुमार अनिल

10 comments:

  1. अपने दिल में कहीं खुदा रखना!


    ..........

    बहुत ही सुन्दर और मौजू...

    अनिलजी को हमारी बधाई....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राहुल भाई

      Delete
  2. बहुत सुन्दर....
    शुक्रिया यशोदा.

    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब.
    बहुत अच्छी लगी यह प्रस्तुति.
    आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राकेश भाई

      Delete
  4. thodi hansne ki bhi jagah rakhna bhai.
    ghazab likhte ho yaar ,

    ReplyDelete
    Replies
    1. वैतरणी जी
      भाई कहूँ य़ा बहन

      शुक्रिया

      Delete
  5. Jabt hai ashk bahut palakon pe- jo bah nikle to ek fasana ho /hans to lete hai jamane bhar me- kabhi rone ko ashiyana ho /

    wah bhayi pahali pankti to ghazab ki hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया.... भाई दयानन्द जी

      Delete