Wednesday, May 9, 2018

खाली दोनों हाथ हैं.....कल्पना सक्सेना

image not displayed
सांस गई पहचान गई है
अब कोई पहचान नहीं
टैग लगाकर मुझे लिटाया
जब  से मुझ में जान नहीं

बड़ा ऐंठता फिरता था मैं
भरकर सदा जुनून से
अब तो मेरा तन भी
खाली है मेरे ही खून से

साथ सभी थे जीवन भर जो
वो भी अब ना साथ हैं
अब ना कुछ भी पास में मेरे
खाली दोनों हाथ हैं

रंग बिरंगे कपड़े पहने
सदा रहा मैं क्यूँ इतराता
आखिर मैंने पाया कफन
जो सबको पहनाया जाता

बड़ी कमाई दौलत जो थी
वो भी अब ना पास है
दो गज मिले जमीं अब तो
या कुछ लकड़ी की आस है

-कल्पना सक्सेना

7 comments:

  1. मृत्यु के सत्य का बेबाक अभिव्यक्ति सूंदर रचना कल्पना जी शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. वाह !!!लाजवाब !!!

    ReplyDelete
  3. हकीकत पता है तब भी मगरूर हूँ मैं
    उम्दा रचना

    ReplyDelete
  4. जीवन का यह सत्य हम सभी जानते है लेकिन ताउम्र इसे झुठलाने में लगे रहते है|
    सुन्दर रचना|

    ReplyDelete
  5. अनत यात्रा पर चलने वाला इंसान जरुर यही सोचता होगा बहुत ही सार्थक रचना आदरणीय कल्पना जी |

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 10.05.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2966 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete