Wednesday, May 23, 2018

मुझे बचपन की कुछ यादें.....रईस अमरोहवीं



तिरा ख़याल कि ख़वाबों में जिन से है ख़ुशबू 
वो ख़्वाब जिन में मिरा पैकर-ए-ख़याल है तू। 

सता रही हैं मुझे बचपन की कुछ यादें
वो गर्मियों के शब़-ओ-रोज़ दोपहर की वो लू। 

पचास साल की यादों के नक़्श और नक़्शे 
वो कोई निस्फ़ सदी क़ब्ल का ज़माना-ए-हू। 

वो गर्म-ओ-ख़ुश्क महीने वो जेठ वो बैसाख.
कि हाफ़िज़ में कभी आह कैं कभी आँसूं।
-रईस अमरोहवीं
मोहतरिम श़ायर रईस साहब की पूरी ग़ज़ल
पढ़वाना चाहते थे हम..
पर टाईप करने में असफल रहे
पूरी ग़ज़ल यहाँ पढ़ें
रोमन हिन्दी में है..


1 comment: