Saturday, May 5, 2018

इंतजार की बेताबी............ कुसुम कोठारी

अंधेरे से कर प्रीति
उजाले सब दे दिये 
अब न ढूंढना
उजालो में हमें कभी।

हम मिलेंगे सुरमई
शाम  के   घेरों में 
विरह का आलाप ना छेड़ना
इंतजार की बेताबी में कभी।

नयन बदरी भरे
छलक न जाऐ मायूसी में 
राहों पे निशां ना होंगे
मुड के न देखना कभी।

आहट पर न चौंकना
ना मौजूद होंगे हवाओं मे 
अलविदा भी न कहना
शायद लौट आयें कभी।

-कुसुम कोठारी 

20 comments:

  1. सादर आभार आदरणीय

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत रचना। लाजवाब !!!

    ReplyDelete
  3. आहट पर न चौंकना
    ना मौजूद होंगे हवाओं मे
    अलविदा भी न कहना
    शायद लौट आयें कभी।
    इन्तजार....बहुत सुन्दर...
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी स्नेह आभार सखी ।
      आपका स्नेह मन मोह लेता है।

      Delete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-05-2018) को "उच्चारण ही बनेंगे अब वेदों की ऋचाएँ" (चर्चा अंक-2962) (चर्चा अंक-1956) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय, मेरी रचना चुनने के लिए पुनः आभार।

      Delete
  5. सुन्दर रचना हेतु बधाई,

    मेरे हिन्दी ब्लॉग "हिन्दी कविता मंच" पर "अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस" के नए पोस्ट "मजदूर - https://hindikavitamanch.blogspot.in/2018/05/world-labor-day.html " पर भी पधारे और अपने विचार प्रकट करें|

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  7. लोट कर पहुंच जाएँ वहीं ...और फिर वही तुम हो इस आशा में तो जीवन दे रखा है बस इंतजार है उस समय का जब ये घटित हो.

    ReplyDelete
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक ७ मई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. वाह!!कुसुम जी ,बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  10. अंधेरे से कर प्रीति
    उजाले सब दे दिये
    अब न ढूंढना
    उजालो में हमें कभी।
    बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  11. वाह वाह दीदी जी
    समर्पित जीवन के उजीयारे सारे
    जलती प्रेम की आग में
    पीते विरह के घूंट सारे
    एक इंतजार की आस में

    लाजवाब सुंदर भावपूर्ण रचना 👌

    ReplyDelete