Friday, May 18, 2018

ठंडी बयार का झोंका....कुसुम कोठारी

मां को काट दोगे
माना जन्म दाता नहीं है
पर पाला तुम्हें प्यार से
ठंडी छांव दी प्राण वायु दी
फल दिये
पंछिओं को बसेरा दिया
कलरव उनका सुन खुश होते सदा

ठंडी बयार का झोंका
जो लिपटकर उस से आता
अंदर तक एक शीतलता भरता
तेरे पास के सभी प्रदुषण को 
निज मे शोषित करता

हां, काट दो बुड्ढा भी हो गया
रुको!! क्यों काट रहे बताओगे? 
लकडी चहिये हां, तुम्हें भी पेट भरना है
काटो पर एक शर्त है
एक काटने से पहले
कम से कम दस लगाओगे।
ऐसी जगह कि फिर किसी
 विकास की भेट ना चढूं मै
समझ गये तो रखो कुल्हाड़ी

पहले वृक्षारोपण करो
जब वो कोमल सा विकसित होने लगे
मुझे काटो मै अंत अपना भी
तुम पर बलिदान करुं
तुम्हारे और तुम्हारे नन्हों की
आजीविका बनूं

और तुम मेरे नन्हों को संभालना
कल वो तुम्हारे वंशजों को जीवन देगें
आज तुम गर नई पौध लगाओगे
कल तुम्हारे वंशज 
फल ही नही जीवन भी पायेंगे।
-कुसुम कोठारी

एक पेड काटने वालों 
पहले दस पेड़ लगाओ 
फिर हाथ में आरी उठाओ

15 comments:

  1. सादर आभार सखी आपकी धरोहर मे मेरी रचना को सम्मलित करने के लिये।

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. सादर आभार आदरणीय।

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (19-05-2017) को " बेवकूफ होशियारों में शामिल" (चर्चा अंक-2965) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार मेरी रचना को चर्चा मंच पर रखने के लिये, मै अनुग्रहित हूं आदरणीय ।

      Delete
  4. सुंदर रचना
    जेसे माँ निस्वार्थ भाव से अपने बच्चों को दूध पिलाती है,प्यार करती है वेसे ही पेड़ हमें निस्वार्थ भाव से प्राण वायु देते रहते हैं.
    १० लगाओ लेकिन १ काटो वही क्यूँ ..? ये एक जीव हत्या के बराबर है.


    हाथ पकडती है और कहती है ये बाब ना रख (गजल 4)

    ReplyDelete
    Replies
    1. विस्तृत व्याख्या आपकी सटीक, सादर आभार।
      आपने सही कहा के ये जीव हत्या के बराबर है पर प्रकृति दत्त ये साधन है मनुष्य की कई जरूरत पुरा करने का साधन है सो काटने तो पड़ेगे पर अगर आगे से आगे लगाते रहोगे तो पर्यावरण का संतुलन बना रहेगा, हां जबरदस्ती वन काटना या बडी इमारतों या शहरों के विस्तार या फिर बडे माॅल या स्वार्थ और लालच वश काटने पर रोक लगाना अत्यावश्यक है ।
      मेरे विचार हैं कहीं कोई अतिक्रमण हुआ हो तो क्षमा करें।
      सादर ।

      Delete
  5. दी,बहुत सुंदर रचना सार्थक संदेश के साथ।
    आज जरूरत है खुद को जागरूक करने की अपने आस पास अगर संभव हो तो पेडं अवश्य लगाकर हम पर्यावरण को.शुद्ध करने में सहयोग कर सकते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेह आभार श्वेता हम स्वयं ये कर सकते हैं बच्चों को ऐसा करने मे आनंद आता है और वे बढ़ चढ़कर ऐसी गतिविधियों मे भाग लेते हैं उत्साह के साथ और बहुत खुश होते हैं, कहते हैं हमे इको फ्रेंडली काम करने चाहिये और वे उसे नैतिक कर्तव्य मान करते हैं जरुरत है बस जागरूकता फैलाने की ।

      Delete
  6. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी इस सम्मान के लिये तहे दिल से शुक्रिया ।
      मै अवश्य बुलेटिन पर आऊंगी ये मेरा सौभाग्य होगा।
      सादर

      Delete
  7. बहुत सुंदर और सत्य लिखा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपका रश्मि जी।

      Delete
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २१ मई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार ।

      Delete