Thursday, October 17, 2013

मैं तो यूँ ही बुनता हूँ ग़ज़लें अपनी..............गौतम राजरिशी



चाँद ज़रा जब मद्धम-सा हो जाता है
अम्बर जाने क्यूँ तन्हा हो जाता है

चोट लगी है जब-जब नींद की रूहों को
जिस्म भी ख़्वाबों का नीला हो जाता है

तेरी गली में यूँ ही आते-जाते बस
ऐसा-वैसा भी कैसा हो जाता है

उसके फ़ोन की घंटी पर कमरा कैसा
लाल-गुलाबी सपनीला हो जाता है

येल्लो पोल्का डॉट दुपट्टा तेरा उड़े
तो मौसम भी चितकबरा हो जाता है

अलबम का इक-इक फ़ोटो जाने कैसे
शब को नॉवेल का पन्ना हो जाता है

तेरी-मेरी नज़रों का बस मिलना भर
मेरे लिये वो ही बोसा हो जाता है

उस नीली खिड़की के पट्टे का खुलना
नीचे गली में इक क़िस्सा हो जाता है

इश्क़ का ‘ओएसिस’ हो या हो यादों का
“धीरे-धीरे सब सहरा हो जाता है”

मैं तो यूँ ही बुनता हूँ ग़ज़लें अपनी
नाम का तेरे क्यूँ हल्ला हो जाता है

-गौतम राजरिशी {09419029557, 01955-213171}

*ओएसिस = मरुद्यान

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (18-10-2013) "मैं तो यूँ ही बुनता हूँ (चर्चा मंचःअंक-1402) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

  2. तेरी-मेरी नज़रों का बस मिलना भर
    मेरे लिये वो ही बोसा हो जाता है

    अलग मिजाज़ की गजल।

    ReplyDelete
  3. .बेहतरीन अंदाज़.....

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब लिखा है आपने |

    मेरी नई रचना:- "झारखण्ड की सैर"

    ReplyDelete