Saturday, October 19, 2013

दिल का इक कोना ग़ुस्सा हो जाता है............... प्रखर मालवीय ‘कान्हा’



रो-धो के सब कुछ अच्छा हो जाता है
मन जैसे रुठा बच्चा हो जाता है

कितना गहरा लगता है ग़म का सागर
अश्क बहा लूं तो उथला हो जाता है

लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल
छप्पर वाला घर क़िस्सा हो जाता है

मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
कहने को तो, घर पक्का हो जाता है

नीँद के ख़्वाब खुली आँखों से जब देखूँ
दिल का इक कोना ग़ुस्सा हो जाता है

प्रखर मालवीय ‘कान्हा’ 08057575552


28 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है...

    बेहतरीन सुंदर गजल साझा करने के लिए आभार !

    RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut bahut aabhar dhirendra ji...shukriya kubul farmaye

      Prakhar Malviya 'Kanha'

      Delete
    2. wah ! bahut sundar......likhne ka andaz bahut khoob

      Delete
  4. Houslaafzai k liye Tah-e-dil se shukriya Rewa ji
    Kanha

    ReplyDelete
  5. रो-धो के सब कुछ अच्छा हो जाता है
    मन जैसे रुठा बच्चा हो जाता है
    वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन सुंदर गजल

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल {रविवार} 20/10/2013 है जिंदगी एक छलावा -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा अंक : 30 पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    ललित चाहार

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hum is jarra-nawaji ke liye apka aabhar prakat krte hain Lalit ji....sadhuwad
      Hum aap logo ke beech moujud hone ka prayatn krenge

      Kanha

      Delete
  8. खूबसूरत ग़ज़ल .. हरेक अश'आर बेहद प्रभावी !आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल 20/10/2013, रविवार ‘ब्लॉग प्रसारण’ http://blogprasaran.blogspot.in/ पर भी ... कृपया पधारें ..

    ReplyDelete
  9. Is inayat ke liye Tah-e-dil se shukriya kubul farmaye'n Shalini ji...ye hamare liye garv ki baat hogi agr hum chand lamhaat aap logo k sang vyateet kre to...hum apke blog par kal kuchh samay dene ki puri koshis krenge....saadar

    Kanha

    ReplyDelete
  10. कितना गहरा लगता है ग़म का सागर
    अश्क बहा लूं तो उथला हो जाता है

    सच ही कहा है। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Is Housla-afzai ke liye aabhar Asha ji

      Kanha

      Delete
  11. लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल
    छप्पर वाला घर क़िस्सा हो जाता है
    आप बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखते है ,जारी रखे |
    नई पोस्ट महिषासुर बध (भाग तीन)

    ReplyDelete
  12. नीँद के ख़्वाब खुली आँखों से जब देखूँ
    दिल का इक कोना ग़ुस्सा हो जाता है
    बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : धन का देवता या रक्षक

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर और गहरे भाव लिये मन को छू जाती रचना

    ReplyDelete
  14. Bahut bahut aabhar Shikha ji..yakinan housla afzai hogi

    Kanha

    ReplyDelete
  15. Kya kahne bhai lajawab ek se bad k ek ashyaar kahe hain jio kanha

    ReplyDelete