Sunday, January 20, 2013

तुम्हारे जाने का अहसास......स्मृति जोशा "फाल्गुनी"




सिर्फ, एक छोटा-सा पल
तुम्हें लेकर आया मुझ तक,
और जैसे मैंने जी लिया एक पूरा युग।

.....
उस एक संक्षिप्त पल में
गुजरी मुझ पर एक साथ
भीनी हवाओं की नरम थपकियाँ

बरसीं मीठी शीतल सावन बूँदें
बिखरी कच्ची टेसू पत्तियाँ
कानों में घुलती रही देर तक
तुम्हारी नीम गहरी आवाज
मेरी आँखों में चमकती रहीं
तुम्हारी शहदीया दो आँख
मेरी अँगुलियों में महकता रहा
तुम्हारे जाने का अहसास

.....
दिल की गुलमोहर बगिया में
खिली देर तक एक सुहानी आस।
सामने थे तब कितनी दूर थे तुम
अब जब कहीं नहीं हो तब
कितने आसपास....बनकर खास!
एक मधुरिम प्यास..! 


---स्मृति जोशा "फाल्गुनी"

9 comments:

  1. दिल की गुलमोहर बगिया में
    खिली देर तक एक सुहानी आस।
    सामने थे तब कितनी दूर थे तुम
    अब जब कहीं नहीं हो तब
    कितने आसपास....बनकर खास!
    एक मधुरिम प्यास..!
    ---------------------------------------
    सच .. रचना पढने के बाद एक शीतल बयार आत्मा को स्पर्श कर फुर्र हो गयी .. अभी मै जिस जगह पर हूँ और अपने लैपटॉप पर इसको कई बार पढ़कर सब कुछ भूल सा जाना चाहता हूँ ... टिप्पणी कुछ ज्यादा ही लम्बी हो गयी ... शायद ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. राहुल भाई
      ये कविता है ही ऐसी
      कोई भी दो बार पढ़े बगैर नही रहता

      Delete
  2. anubhuti ki parakastha ,dil ke bhavo ki bejod prastuti ****सिर्फ, एक छोटा-सा पल
    तुम्हें लेकर आया मुझ तक,
    और जैसे मैंने जी लिया एक पूरा युग।

    ReplyDelete
  3. सिर्फ, एक छोटा-सा पल
    तुम्हें लेकर आया मुझ तक,
    और जैसे मैंने जी लिया एक पूरा युग।
    प्यार के सही मायने समझा गई ......
    .... बहुत ही प्यारा .... !!

    ReplyDelete
  4. bahut achchhi rachana ke liye aabhar yashoda ji ........nayee purani halchal pr geet sunaya eske liye bhi aabhar ......apki pasand kafi achchhi lgi .

    ReplyDelete
  5. sumdar Prastuti....
    सिर्फ, एक छोटा-सा पल
    तुम्हें लेकर आया मुझ तक,
    और जैसे मैंने जी लिया एक पूरा युग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई
      आपको देखे पूरा साल गुजर गया
      कहाँ थे आप
      सादर

      Delete