Wednesday, February 12, 2020

'कलम' ...ओम प्रकाश अत्रि

हर गरीब
बेबस जनता के
बहते हुए
आँसुओं को
पोछती कलम,

बेजुबान की
जुबान बनकर
उसके हकों को
दिलाती कलम।

छोटी सी छोटी
कमजोरियों को
बड़ी सी बड़ी
खूबियों को
उजागर करती कलम,

ज़िन्दगी के
धूमिल
हर मोड़ पर
साथ देती कलम।

प्रेम की
भाषा भी  लिखती
दुखित के
दुख को परखती,
द्वेष का सैलाब
मिटाकर
शिष्टता लाती कलम।

दूर करती
नीचता को
नष्ट करती
काले बाज़ार को,
देश के हित
आग बनकर
क्रान्ति को लाती कलम।

पूंजीपति की
कटुरता को
देखकर
उनके कहर को
दहक उठती
शोला बनकर,
श्रमिक जन को
सन्देश देती
हौंसला बनकर कलम।

मुल्क के हित
सैनिकों में
ओज का संचार
करती,
पाठ सच्चाई का
सिखाकर
कोरे कागद पर
एक नया
इतिहास लिखकर
सद्भावना लाती कलम।
-ओम प्रकाश अत्रि

8 comments:

  1. उम्दा प्रस्तुति है

    ReplyDelete
  2. प्रशंसनीय

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 13.02.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3610 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. सुन्दर अतिसुन्दर!

    ReplyDelete