Sunday, February 16, 2020

आइना मत दिखाओ.... नवीन मणि त्रिपाठी


2122 1212 22
इक ग़ज़ल गुनगुनाओ सो जाओ ।
फ़िक्र दिल से उड़ाओ सो जाओ ।।

शमअ में जल गए पतंगे सब ।
इश्क़ मत आज़माओ सो जाओ ।।

यादें मिटतीं नहीं अगर उसकी ।
ख़त पुराने जलाओ सो जाओ ।।

रात काफ़ी गुज़र चुकी है अब ।
चाँद को भूल जाओ सो जाओ ।।

उसने तुमको गुलाब भेज दिया ।
गुल को दिल से लगाओ सो जाओ ।।

उल्फ़तें बिक रहीं करो हासिल ।
दाम अच्छा लगाओ सो जाओ ।।

ख़ाब में वस्ल है मयस्सर अब ।
रुख़ से चिलमन हटाओ सो जाओ ।।

बेवफ़ा की तमाम बातों का ।
यूँ न चर्चा चलाओ सो जाओ ।।

बारहा माँगने की आदत से ।
काहिलों बाज़ आओ सो जाओ ।।

है सियासत का फ़लसफ़ा इतना ।
आग घर में लगाओ सो जाओ ।।

इतनी जल्दी भी क्या मुहब्बत में ।
तुम ज़रा सब्र खाओ सो जाओ ।।

स्याह रातों में बेसबब मुझको ।
आइना मत दिखाओ सो जाओ ।।
--नवीन मणि त्रिपाठी

4 comments:

  1. मेरी धरोहर एक लोक प्रिय ब्लॉग है । मेरी गज़ल को प्रकाशित करने के लिए तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीया । सप्रेम नमन ।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 16 फरवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. वाह 👏 👏 👏 अप्रतिम. बहुत सुन्दर ग़ज़ल

    दुष्यंत कुमार जी की याद दिला गई.
    है सियासत का फ़लसफ़ा इतना ।
    आग घर में लगाओ सो जाओ ।।

    ReplyDelete