Monday, November 14, 2016

लानत.........दिव्या माथुर














थोड़ा सा
छेड़ा भर था

रूठ गया
और न लौटा

लानत भेजी
तो भी न गया

तुझ से अच्छा
है ख़याल तेरा

दिव्या माथुर

लेखक परिचय

1 comment: