Saturday, June 20, 2020

तभी तो ख़ामोश रहता है आईना......संजय भास्कर



अक्सर हमेशा कुछ कहता है आईना

तभी तो हमेशा ख़ामोश रहता है आईना  !!


जो बातें छिपी है दिल के अन्दर 

उसे बाहर लाने में मददगार होता है आईना  !!


दीवानगी में दीवाने लोगो का दुःख

देखकर चुपचाप सहता है आईना  !!


जब कभी अकेले होता हूँ तन्हा

तन्हाई का सबसे बड़ा साथी है आईना !!


कहते है आईना दिखाता है जाल भ्रम का 

पर बार -बार टूट कर भी धड़कता है आईना !!


-- संजय भास्कर 

9 comments:

  1. व्वाहहहह..
    अक्सर हमेशा कुछ कहता है आईना
    तभी तो हमेशा ख़ामोश रहता है आईना !!

    जो बातें छिपी है दिल के अन्दर
    उसे बाहर लाने में मददगार होता है आईना !!
    सादर

    ReplyDelete
  2. जब कभी अकेले होता हूँ तन्हा
    तन्हाई का सबसे बड़ा साथी है आईना !!
    बेहतरीन..
    सादर..

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 20 जून 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  5. जब कभी अकेले होता हूँ तन्हा
    तन्हाई का सबसे बड़ा साथी है आईना !!
    बहुत खूब 👍
    चेहरे के दाग भी दिखाता है आईना ...

    ReplyDelete
  6. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. अक्सर हमेशा कुछ कहता है आईना

    तभी तो हमेशा ख़ामोश रहता है आईना !!
    खामोशी सचमुच सबसे ज्यादा कहती है
    बहुत लाजवाब सृजन
    वाह!!!

    ReplyDelete