Tuesday, November 20, 2012

पाँच शूलिकाएँ...................संजय जोशी "सजग"


* शुलिका 1 *
घोटाले पर घोटाले
जब खुलते घोटाले
हर दल उसको टाले
सब के हाथ है काले


* शुलिका 2 *
महंगाई के बम फूटे
सरकार के बहाने झूटे



* शुलिका 3 *
हमारा माल
बेचे विदेशी मॉल
केसा बिछा रहे जाल
क्यों कर रहे हलाल
देश होगा कंगाल
जनता होगी बदहाल



* शुलिका 4 *

राजनीति का द्वन्द
धरना, प्रदर्शन, बंद
खुश होते है कुछ चंद
कितने चूल्हे रहते बंद


* शुलिका 5 *
घोटाले का बीज बोओ
भ्रष्टाचार से सींचो
रिश्वत के फल तोड़ो
ऐसे पेड़ पर लगते पैसे
*कौन कहता है ..पैसे पेड़...पर नही लगते ..............

संजय जोशी "सजग"

15 comments:

  1. आपके इस प्रविष्टी की चर्चा बुधवार (21-11-12) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया प्रदीप भाई

      Delete
  2. यशोदा बहन जी ....आपका आभार और शुक्रिया ...आपने मेरी ..शूलिका को नया आयाम दिया ...:):):)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभ प्रभात संजय भाई
      छा गई आपकी शूलिकाएँ
      आप छः से दस की तैय्यारी कीजिये
      सादर

      Delete
  3. Replies
    1. दीदी....
      मैंनें नहीं संजय भैय्या की रचना है ये

      Delete
  4. भावपूर्ण अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.......

    ReplyDelete
  6. यशोदा जी, पहली बार आपको पढ़ने का सौभाग्य मिला.. और पढ़कर बहुत अच्छा लगा ! :)
    संजय जोशी जी... बहुत बढ़िया प्रस्तुति !:)
    सच ही तो है...कौन कहता है, पैसे पेड़ पर नहीं लगते...
    ~सादर !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दीदी
      अभी मैंने भाई संजय जी को कहा है
      आप तो छा गए
      शूलिका -6 से 10 की तैय्यारी करिये

      Delete
  7. आप सभी का आत्मीय धन्यवाद ......

    ReplyDelete