Monday, June 11, 2012

खुदा परस्त दुआ ढूंढ रहे हैं.......अंसार कम्बरी

वो हैं के वफ़ाओं में खता ढूंढ रहे हैं,
हम हैं के खताओं में वफ़ा ढूंढ रहे हैं !

हम हैं खुदा परस्त दुआ ढूंढ रहे हैं,
वो इश्क के बीमार दवा ढूंढ रहे हैं !

तुमने बड़े ही प्यार से जो हमको दिया है,
उस ज़हर में अमृत का मज़ा ढूंढ रहे हैं !

माँ-बाप अगर हैं तो ये समझो के स्वर्ग है,
कितने यतीम इनकी दुआ
ढूंढ रहे हैं !

उस दौर में सुनते हैं के घर-घर में बसी थी,
इस दौर में हम शर्मो-हया
ढूंढ रहे हैं !

वैसे तो पाक दामनी सबको पसंद है,
फिर आप क्यों औरत में अदा
ढूंढ रहे हैं !

हाँ ! 'क़म्बरी' ने सच के सिवा कुछ नहीं कहा,
कुछ लोग हैं जो सच की सज़ा
ढूंढ रहे हैं !


 
-----अंसार 'क़म्बरी'

11 comments:

  1. बहुत खूब.................

    सांझा करने का शुक्रिया यशोदा जी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपको भी
      आपने कम्बरी भाईजान की रचना को सराहा

      Delete
  2. उस दौर में सुनते हैं के घर-घर में बसी थी,
    इस दौर में हम शर्मो-हया ढूंढ रहे हैं !



    वाह... कम्बरी साहब... कितनी उम्दा बात कही है आपने.. सच.. काफी दिनों के बाद कुछ अच्छा पढ़ने को मिला.. दिल से आपका आभार कम्बरी साहब...........................

    ReplyDelete
  3. ये बात कही आपने राहुल दिल से
    शुभ सँध्या
    कम्बरी भाईजान मेरे फेसबुक फ्रेण्ड हैं
    यदि आप हैं फेसबुक में तो मिलिये उनसे वहाँ
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरुर यशोदाजी,

      हम तो कंबरी साहब को कहीं भी तलाश लेंगे...

      Delete
  4. Replies
    1. शुक्रिया अना जी

      Delete
  5. thanks yashoda 4 dropping by !!

    lovely blog u have here :)
    hope to c u more

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्योति जी

      Delete
  6. बहुत अच्छी रचनाएँ हैं |

    ReplyDelete
  7. शुक्रिया दीदी
    आपके संस्मरण को हरदम याद रखूँगी
    सादर

    ReplyDelete