Wednesday, November 20, 2019

चाँद -सा मुखड़ा ...ज्योति नामदेव

क्या परिभाषा हो सकती है,
चाँद -से मुखड़े की,
वो जो वासना की ओर
धकेलता है
या फिर वो
जो वासना से पार ले जाता है,

विश्व के सारे प्रेमी
सुन्दर तन, सुन्दर सूरत
को कहते है
चाँद- सा मुखड़ा
लेकिन मै सहमत नहीं
इस उपमा से

चाँद-सा मुखड़ा बनने
के लिए त्यागना
पड़ता है अपना सर्वस्व
जीवन -धारा

तब जाकर बनती है, सीता
तब जाकर बनती है, अहल्या
तब जाकर बनती है, तुलसी
तब जाकर बनती है, गीता

नामों में क्या रखा है जनाब
अपनी कस्तूरी को खोजिए
और आप भी बन जाइए
चाँद -सा मुखड़ा
किसी जिंदगी का टुकड़ा
-ज्योति नामदेव

9 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 21.11,2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3526 में दिया जाएगा | आपकी उपस्थिति मंच की गरिमा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  2. नामों में क्या रखा है जनाब
    अपनी कस्तूरी को खोजिए
    और आप भी बन जाइए
    चाँद -सा मुखड़ा
    किसी जिंदगी का टुकड़ा
    प्रणम्य रचना मैम। सादर नमन।

    ReplyDelete
  3. वाह 'चाँद सा मुखड़ा की एक नई परिभाषा , नई सोच ,बधाई

    ReplyDelete
  4. बेहद उम्दा....

    आपका मेरे ब्लॉग पर स्वागत है|

    https://hindikavitamanch.blogspot.com/2019/11/I-Love-You.html

    ReplyDelete